विश्वविद्यालय के लिए गर्व की बात की छात्रों को मिला 28 लाख का पैकेज: कुलपति




कुरुक्षेत्र, नवम्बर वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक :- कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. कैलाश चंद्र शर्मा ने कहा है कि यूआईईटी के  छात्र सुनील दहिया व नमन मित्तल को अमेजन इंडिया  28 लाख  का पैकेज मिला है। कुलपति बुधवार को यूआईईटी संस्थान के निदेशक प्रो. सीसी त्रिपाठी, संस्थान के ट्रेनिंग और प्लेसमेंट अधिकारी डॉ. निखिल मारीवाला व डॉ. संजीव आहूजा तथा दोनों छात्रों को बधाई देते हुए बोल रहे थे।

कुलपति ने कहा की इतनी बड़ी उपलब्धि मिलने पर पूरे विश्वविद्यालय परिवार को दोनों छात्रों पर गर्व करना चाहिए जिन्होंने इतने बड़े पैकेज लेकर विश्वविद्यालय का मान सम्मान बढ़ाया है । उन्होंने संस्थान के ट्रेनिंग और प्लेसमेंट विभाग की सराहना करते हुए कहा कि कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय ट्रेनिंग और प्लेसमेंट के क्षेत्र में निरंतर बड़ी- बड़ी कंपनी के कंपनियों के साथ निरंतर जुड़ा हुआ है। और समय- समय पर विश्वविद्यालय के विद्यार्थी विभिन्न कंपनियों में कैम्पस प्लेसमेंट ड्राइव के अंतर्गत सफ लता अर्जित करते हैं ।

संस्थान के निदेशक प्रोफेसर त्रिपाठी ने बताया कि इतनी बड़ी मात्रा में पैकेज मिलना संस्थान के साथ विश्वविद्यालय के लिए बड़ी खुशी का क्षण है उन्होंने कहां की यूआईईटी संस्थान के 80 विद्यार्थियों ने इस बड़ी चुनौती का सामना करने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया था  जिसमें से पहले राउंड में 13 विद्यार्थियों ने ऑनलाइन परीक्षा को पास किया। इन 13 विद्यार्थियों में से दूसरे राउंड में 4 विद्यार्थी सफल हुए। आखिरी और बड़े चुनौतीपूर्ण राउंड में साक्षात्कार व अन्य स्किल्स की प्रतियोगिता के दौरान अंतिम 2 विद्यार्थियों ने सफलता हासिल की ।

नमन मित्तल के पिता ओम प्रकाश मित्तल हिसार में छोटी सी दुकान चलाते हैं उन्होंने बताया कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है क्योंकि जब भी हम बेटे को किसी भी प्रकार का कोई भी पारिवारिक या सामाजिक कार्यक्रम में प्रतिभागिता के लिए बोलते थे तो वह है अपने आप को अपनी पढ़ाई के प्रति समर्पण के कारण परिवार को भी समय नहीं दे पाता था। कई बार हमें भी फ ीस भरने में कठिनाई आती थी परंतु आज बेटे की पढ़ाई में हमारे सपनों को साकार कर दिया यह बहुत बड़ी बात है ।

वहीं दूसरी ओर सेसरी गाँव सोनीपत के सुनील दहिया के पिता रवींद्र, रोडवेज विभाग मे बैतोर  क्लर्क की नौकरी करते हैं। उन्होंने अपने बेटे की पढ़ाई के लिए तन-मन-धन को बेटे के लिए न्यौछावर कर दिया और इतना बड़े पैकेज की बात सुनकर हृदय से विभाग के ट्रेनिंग और प्लेसमेंट अधिकारी के साथ उनके तमाम शिक्षक व अन्य कर्मचारियों का धन्यवाद करता हूं जिन्होंने समय-समय पर बेटे को अपने कैरियर के प्रति मार्गदर्शन किया ।

संस्थान के ट्रेनिंग और प्लेसमेंट अधिकारी निखिल मारीवाला व डॉ. संजीव आहूजा ने कहा कि हम बहुत सारी कंपनियों के साथ कैम्पस प्लैसमेंट के ड्राइव आयोजित करते हैं परंतु इसमें सबसे ज्यादा चुनौतीपूर्ण वातावरण ऐमेज़ॉन का था। 80 में से दो विद्यार्थियों का चयन होना अपने आप में बड़ा कठिन कार्य था परंतु किसी भी चुनौती को हम सहर्ष स्वीकार करते हैं और विद्यार्थियों को उसे संबंधित वातावरण प्रदान करने के लिए हर समय प्रयासरत रहते हैं। संस्थान के सभी शिक्षक और गैर शिक्षक कर्मचारियों ने उन्हें बधाई दी।

SHARE THIS

Author:

Print Hindi Magazine and Online News

Previous Post
Next Post