शहर की सफाई व्यवस्था में खामी पाई तो एंजेसी को भरना होगा भारी भरकम जुर्माना:सुधा


विधायक सुभाष सुधा के आदेशानुसार नगरपरिषद ने तय की जुर्माने के राशि, 100 रुपए से लेकर 5 हजार रुपए प्रतिदिन के हिसाब से लगाया जाएगा एंजेसी पर जुर्माना, विधायक ने शहर की सफाई व्यवस्था को दुरूस्त करने के लिए तय की एंजेसियों की जिम्मेवारी
कुरुक्षेत्र थानेसर विधायक सुधा ने कहा कि शहर की सफाई व्यवस्था में अब सर्विस प्रोवाईडर एंजेसियों की अब मानमानी और डिंगामस्ती नहीं चलेगी। अगर शहर में डस्टबीन से लेकर घरों से कूडा एकत्रित करने में लापरवाही बरती तो 100 रुपए से लेकर 5 हजार रुपए तक प्रतिदिन हिसाब से सर्विस प्रोवाईडर को जुर्माना देना होगा। अहम पहलु यह है कि अब नगरपरिषद की तरफ से प्रत्येक कमी के लिए जुर्माने की राशि तय करके एक शैडयूल भी जारी कर दिया गया है। 
वे मंगलवार को आवास कार्यालय पर नगरपरिषद के अधिकारियेां और कर्मचारियों को कुछ आवश्यक दिशा निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि शहर की सफाई व्यवस्था सबसे पहले है इसलिए शहर को स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिए सर्विस प्रोवाईडर को भी जिम्मेवारी सौंपी गई है, लेकिन लोगों की लगातार सफाई व्यवस्था को लेकर शिकायतें मिल रही थी, इसलिए शहर की सफाई व्यवस्था और नगरवासियों की परेशानियों को देखते हुए नगरपरिषद की तरफ से कठोर कदम उठाएं गए है। अब शहर की सफाई व्यवस्था के लिए सर्विस प्रोवाईडर की जिम्मेवारी तय करने के साथ-साथ प्रतिदिन के हिसाब से जुर्माने की राशि भी तय कर दी गई है। 
उन्होंने शहर के  सफाई अभियान में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ निर्देश जारी करते हुए कहा कि शहर में कहीं भी डस्टबीन अच्छी हालात में नहीं पाया गया तो पर स्पोट के हिसाब से 3 हजार रुपए प्रति दिन जुर्माना लगाया जाएगा, शहर के मुख्य कोलेक्सन बिन्दुओं पर सफाई ना मिलने पर प्रति स्पोट प्रतिदिन 2 हजार रुपए और कर्मचारी गैर हाजिर होने पर 2 दिन का वेतन काटने का प्रावधान रखा गया है, किसी भी तरह की कूडा कर्कट से सम्बन्धित शिकायत मिलने पर और उस शिकायत पर 3घंटे तक कार्रवाई ना करने पर 500 रुपए का जुर्माना, मरे हुए पशु पाए जाने पर 3 घंटे के अंदर उठान कार्य ना होने पर 500 रुपए जुर्माना, अगर किसी भी वाहन पर कूडा कर्कट को ढका हुआ ना पाया गया तो  2 हजार रुपए प्रति शिकायत के हिसाब से जुर्माना वसूल किया जाएगा। 
विधायक ने कहा कि यात्रा करते समय कूडा कर्कट फैलाने पर 1 हजार रुपए प्रति शिकायत जुर्माना,खुली जगहों पर कूडा कर्कट गिराने पर 3 हजार रुपए प्रति शिकायत जुर्माना, एंजेसी या नगरपरिषद के कर्मचारियों द्वारा कूडा कर्कट ना उठाए जाने की सूरत में एनजीटी की गाईडलाईंस के तहत 5 हजार रुपए जुर्माना, चैकिंग पर आए अधिकारियों द्वारा सफाई व्यवस्था दुरूस्त ना पाए जाने की सूरत में 1500 रुपए से   लेकर 5 हजार रुपए तक का जुर्माना, सीएसआई और एसआई अधिकारियों द्वारा चैकिंग करने पर सफाई व्यवस्था दुरूस्त ना पाए जाने की सूरत में 3 हजार रुपए प्रति मार्किट जुर्माने की राशि एंजेसी के मासिक बिल में से काट ली जाएगी। 
उन्होंने बताया कि चैकिंग पर आए अधिकारियों द्वारा अगर सफाई व्यवस्था दुरूस्त नहीं पाई जाती तो उस ऐरिया से सम्बन्धित नगरपरिषद के जिस भी कर्मचारी की डयूटी वहां पर पाई जाती है तो 100 रुपए प्रति दिन प्रति वर्कर के हिसाब से एंजेसी के मासिक बिल  से यह जुर्माना वसूल किया जाएगा, नगरपरिषद द्वार डोर टू डोर कूडा कर्कट उठाने वाले नगरपरिषद के कर्मचारियों की शिकायत पाए जाने पर 200 रुपए प्रति घर प्रति दिन के हिसाब से जुर्माना लगाया जाएगा। नगर परिषद के अधिकारियों द्वारा सरकारी संस्थानों में शौचालयों की चैकिंग करने पर शौचालय की सफाई दुरूस्त ना पाई जाने की सूरत में 200 रुपए प्रति शौचालय के हिसाब से एंजेसी के मासिक बिल से काटा जाएगा। 
उन्होंने यह भी कहा कि अंतर्राष्टï्रीय गीता महोत्सव 2019 का आयोजन 23 नवम्बर 10 दिसम्बर 2019 तक किया जाएगा और 26 दिसंबर सूर्य ग्रहण मेले का भी आयोजन किया जाएगा। इस दौरान अनेक वीवीआईपी लोग और लाखो श्रद्घालु थानेसर की धरा पर पहुंचेंगे, इसलिए हर व्यक्ति यहां से स्वच्छ कुरुक्षेत्र का संदेश लेकर जाए। इस विषय पर फोकस रखकर अधिकारी और कर्मचारी शहर की सफाई व्यवस्था को दुरूस्त करेंगे।

SHARE THIS

Author:

Print Hindi Magazine and Online News

Previous Post
Next Post