विभिन्न राज्यों के लोक नृत्य पर जमकर नाचे पर्यटक



डिस्कवरी टाइम्स कुरुक्षेत्र (पवन कुमार) क्राफ्ट व सरस मेले के तीसरे दिन हजारों पर्यटकों ने लिया सांस्कृतिक कार्यक्रमों का लुत्फ, पर्यटकों ने की क्राफ्ट व सरस मेले में खरीददारी

कुरुक्षेत्र विभिन्न राज्यों के लोक कलाकारों ने लोक नृत्य प्रस्तुत कर पर्यटकों को अपने मोहपाश में बांधने का काम किया। इस अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव-2019 में आने वाले पर्यटक मस्ती के साथ झुमते नजर आए। इन लोक नृत्यों में पंजाब, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर के कलाकारों ने भी अपने-अपने प्रदेश के लोक नृत्य प्रस्तुत कर क्राफ्ट और सरस मेले में खरीददारी करने वाले पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित किया।
महोत्सव के क्राफट और सरस मेले में तीसरे दिन सोमवार को कुरुक्षेत्र व आसपास के शहरों से पर्यटकों और श्रृद्धालुओं का आवागमन शुरु हो गया हैं। क्राफ्ट व सरस मेले के तीसरे दिन पर्यटकों ने मेले में जमकर खरीददारी की और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का लुत्फ उठाया। सबसे पहले उत्तराखंड से आए कलाकारों ने प्रसिद्ध लोक नृत्य की प्रस्तुती देने के लिए जैसे ही मंच पर पहुंचे और अपने वाद्य यंत्रो पर थाप लगाई तो पर्यटक एकाएक इस घाट के सामने एकत्रित हो गए और पर्यटकों के हुजूम को देखकर कलाकारों ने भी पूरे उत्साह और जोश के साथ लोक नृत्य की प्रस्तुती दी। करीब आधा घंटा इस लोक नृत्य ने पर्यटकों का खूब मनोरंजन किया। इस प्रस्तुती के साथ ही पंजाब और हिमाचल प्रदेश के लोक कलाकारों ने भी पर्यटकों को अपनी कला के मोहपाश में बांध कर रखा। उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र पटियाला की तरफ से कुरुक्षेत्र उत्सव में पहुंचे इन कलाकारों ने सुबह और सायं के समय खूब रंग जमाया। 
महोत्सव के तीसरे दिन हरियाणा के बम्ब रसिया, राजस्थान के बाजीगरों और बहरुपियों ने भी पर्यटकों का खुब मनोरंजन किया। केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा ने बताया कि इस उत्सव में 10 दिसम्बर तक अलग-अलग चरणों में करीब विभिन्न प्रदेशों के के लोक कलाकार पर्यटकों का मनोरंजन करेंगे। महोत्सव में पर्यटकों और श्रृद्धालुओं के मनोरंजन के लिए विभिन्न प्रदेशों के कलाकारों को एनजेडसीसी के माध्यम से आमंत्रित किया गया हैं। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी कलाकार सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शानदार प्रस्तुती दे रहे हैं।

SHARE THIS

Author:

Print Hindi Magazine and Online News

Previous Post
Next Post