देव मानव सेवा ट्रस्ट ने जन कल्याणार्थ कार्य कर किए चार साल पूरे , मनाया स्थापना दिवस: अम्बिका शर्मा।

देव मानव सेवा ट्रस्ट ने जन कल्याणार्थ कार्य कर किए चार साल पूरे , मनाया स्थापना दिवस: अम्बिका शर्मा।

देव मानव सेवा ट्रस्ट व राष्ट्रीय महिला जागृति मंच की  चेयरपर्सन अम्बिका शर्मा के सानिध्य में चल रहे राष्ट्रीय स्तर पर जनहित कार्य

हरियाणा  बल्लभगढ़ :- देव मानव सेवा ट्रस्ट के स्थापना दिवस ( 29 दिसम्बर 2015 ) को जन कल्याण की भावना से कार्य करने की शुरुआत की व राष्ट्रीय स्तर पर अपनी टीम के माध्यम से  जनहित  कार्य कर एक मिशाल पेश की ट्रस्ट की चेयरपर्सन अम्बिका शर्मा द्वारा नव वर्ष पर अपनी टीम व देश वासियों को बधाई देते हुए बताया कि ये जीवन अनमोल है चौरासी लाख योनियों के बाद ही मनुष्य योनि जनकल्याण के लिए प्राप्त होती है और जन कल्याण से ही हमारा इस योनि में जन्म लेना सार्थक होता है उन्होंने  सभी साथियो को हार्दिक शुभकामनाएं दी ।  देव मानव सेवा ट्रस्ट  मानवता, युथ, महिला शशक्तिकरण व धार्मिक कार्यो के लिए जाना जाता है। इसकी अनेकों शाखायें है राष्ट्रीय महिला जागृति मंच, महक अकेडमी, देव पाठशाला, देव युथ ब्रिगेड , धर्म जागरण अभियान, देव मेट्रीमोनियल इत्यादि सभी का एक ही मकसद जन कल्याण नर सेवा नारायण सेवा।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक
94161-91877
सभी सरकारी और निजी स्कूल 30 दिसम्बर से 15 जनवरी तक बंद रखने के आदेश।

सभी सरकारी और निजी स्कूल 30 दिसम्बर से 15 जनवरी तक बंद रखने के आदेश।


बढ़ती ठंड के चलते हरियाणा के स्कूलों में सोमवार से छुट्टी >> सभी सरकारी और निजी स्कूल 30 दिसम्बर से 15 जनवरी तक बंद रखने के आदेश।
REPORTER -PAWAN ROR
 -9729168750
उड़ान महिला मंच  द्वारा नव वर्ष  के उप्लक्ष में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित।

उड़ान महिला मंच द्वारा नव वर्ष के उप्लक्ष में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित।

उड़ान महिला मंच  द्वारा नव वर्ष  के उप्लक्ष में रंगारंग कार्यक्रम आयोजित

हरियाणा पंचकूला  28 दिसम्बर :- आज  उड़ान महिला मंच द्वारा नव वर्ष  के आगमन के उप्लक्ष में होटल सोलिटेयर मे आयोजन किया गया  उड़ान महिला मंच की चेयरपर्सन  डिंपल गर्ग ने बताया कि रंगारंग  कार्यक्रम  में सभी आयु वर्ग की महिलाये बच्चे शामिल हुए सभी ने बड़े उत्साह के साथ  नव वर्ष की पूर्व संध्या पर  स्वागत किया बेबी सैनी ओर सक्षम  पुण्यानि  ऐका नोयजी रैपर ने स्पेशल गेस्ट के रूप मे उपस्थिति दर्ज करायी उन्होने अपनी मधुर आवाज मे सबका मन मोह लिया महिलाये बच्चो के द्वारा मॉडलिंग भी की गयी रितु मोना गुप्ता ओर सोमया ठाकुर  ज्यूरी मेम्बर थे सभी को टाइटल ओर सब टाइटल दिए गए निधि को प्रिंसेस का अवार्ड मिला सरिता ठाकुर पूनम डॉ. प्रतिभा शशि, अमिता कौशिक ,गीतु जैन ,सभी को मॉडलिंग में टाइटल्स मिले लिटिल रिधी को बार्बी डॉल का अवार्ड मिला मेहक कौशिक ,सिमरन गोयल ने सुन्दर डांस किया मास्टर अर्पित जैन, आयुष जैन, अक्षित चिराग ने मॉडलिंग  मे अनेक टाइटल्स जीते मंच की स्केटरी  रितिका जैन ने बताया कि सभी ने मिलकर पंजाबी  हरयाणवी  गीतों पर डांस किया लकी विनर क्विज काफी गैमस भी करायी गयी मंच का उदेश्य गरीब बच्चों ओर महिलाओ की मदद करना है आने वाले वर्ष में सभी ने मिलकर गरीब बच्चो की मदद करने की शपथ ली सभी बड़े उत्साह के साथ नए साल का स्वागत कर रहे हैं सभी ने आपस मे एक  दूसरे को शुभकामनाये दी ऐसे कार्यक्रम  देश मे एकता का संदेश लाते हैं ओर देश की संस्कृति को बढ़ाते है।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक
94161-91877
वन कटाव की वजह से ईको सिस्टम पर बुरा प्रभाव पड़ता है : प्रो. हुंडल।

वन कटाव की वजह से ईको सिस्टम पर बुरा प्रभाव पड़ता है : प्रो. हुंडल।

कुवि में चल रहे रिफ्रेशर कोर्स का हुआ समापन।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र, 28 दिसम्बर :- कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के भौतिकी विभाग तथा मानव संसाधन विकास केन्द्र के तत्वाधान में चल रहे रिफ्रेशर कोर्स के 12 वें व अंतिम दिन मुख्य वक्ता व मुख्य अतिथि पंजाबी एग्रीकल्चर विश्वविद्यालय लुधियाना के  प्रो एसएस हुंडल रहे। उन्होंने मानव तथा पर्यावरण विषय पर अपना व्याख्यान दिया। उन्होंने बताया कि वन कटाव की वजह से ईको सिस्टम पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ रहा है। उन्होंने उदाहरणों के द्वारा बताया कि कैसे मानव अपनी जरूरतों को पूरी करने के लिए पर्यावरण पर बुरा असर डाल रहा है। अपने दूसरे व्याख्यान में उन्होंने पर्यावरण पर डीडीटी के दुष्प्रभाव पर चर्चा की।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की डीन एकेडमिक अफेयर प्रो. मंजूला चौधरी ने अंत: विषय अनुसंधान के महत्व को सभी प्रतिभागियों को समझाया। डीन इंजिनियरिंग एंड टैक्रालॉजी प्रो. श्याम कुमार ने भी इस तरह के अनुसंधान की जरूरतों के बारे में चर्चा की। इस कार्यक्रम में मंच संचालन डॉ. मनीषा संधु ने किया तथा धन्यवाद प्रस्ताव पूजा देवी ने प्रस्तुत किया। इस अवसर पर भौतिकी विभाग के अध्यक्ष प्रो. संजीव अग्रवाल, प्रो. आरके मोदगिल, प्रो. फकीर चंद, कोर्स आयोजक प्रो. राजेश खरब, डॉ. अनु शर्मा तथा कोर्स सह-आयोजक डॉ. मनीष कुमार मौजूद रहे। प्रतिभागियों ने रिफ्रेशर कोर्स के सफल आयोजन की सराहना की।

हरियाणा संपादक - Pawan Ror
9729168750
सब-जूनियर में द्रौणाचार्य टीम ने जीती जिला स्तरीय प्रतियोगिता

सब-जूनियर में द्रौणाचार्य टीम ने जीती जिला स्तरीय प्रतियोगिता


महिला वर्ग के सीनियर वर्ग में कुरुक्षेत्र विश्वद्यिालय की टीम रही प्रथम।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र, 28 दिसंबर :-  हाकी कुरुक्षेत्र एसोसिएशन की तरफ से स्थानीय द्रौणाचार्य स्टेडिय़म में जिला स्तरीय हाकी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता के सब जूनियर वर्ग में द्रौणाचार्य इलेवन टीम ने प्रथम स्थान हासिल किया गया।
हाकी कुरुक्षेत्र एसोसिएशन के अध्यक्ष विकासदीप संधू ने कहा कि हाकी कुरुक्षेत्र की तरफ से समय समय पर खिलाडिय़ों की प्रतिभा में निखार लाने के लिए प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। इसके अलावा खिलाडिय़ों को हर संभव मदद भी की जाती है। इस जिला के हाकी खिलाडिय़ों ने पूरे विश्व में एक मुकाम हासिल किया है। इस स्टेडिय़म के ही खिलाड़ी सुरेंद्र कुमार पालड़ भारतीय हाकी टीम में खेल रहे है।
हाकी कुरुक्षेत्र के सचिव एवं साई ईंचार्ज गुरविंद्र सिंह ने कहा हाकी कुरुक्षेत्र की तरफ से आयोजित जिला स्तरीय हाकी प्रतियोगिता के सब जूनियर वर्ग में द्रौणाचार्य इलेवन ने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय टीम को 2-1 गोल के अंतर से पराजित किया। जूनियर वर्ग में शाहबाद टीम ने द्रौणाचार्य टीम को 1-0 के अंतर से हराया। पुरुषों के सीनियर वर्ग में साई इलेवन ने शाहबाद टीम को 2-0 के अंतर से हरा करके प्रथम स्थान हासिल किया है।
उन्होंने कहा कि महिला वर्ग के सब जूनियर में शाहबाद की टीम ने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की टीम को 2-0 के अंतर के हराया। महिला प्रतियोगिता की जूनियर वर्ग में सोम कानवेंट गुरूकुल की टीम ने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय टीम को 4-1 के गोल से अंतर से हरा कर जिला स्तरीय प्रतियोगिता में प्रथम स्थान हासिल किया है। इसी तरह महिला के सीनियर वर्ग में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की टीम ने शाहबाद मारकंड़ा टीम को 2-0 के गोल के अंतर से पराजित करके प्रथम स्थान हासिल किया है। इस प्रतियोगिता में सागर चौधरी ने रैफरी की भूमिका अदा की है।
प्रतियोगिता के संयोजक एव हाकी कोच सोहन लाल ने मेहमानों का आभार व्यकत किया। इस मौके पर शिव कुमार सैनी, अमनदीप सिंह, नेहा, चंचल शर्मा, मलकीत कौर, गुरप्रीत सिंह एनआईएस पटियाला, जोरावर सिंह, रामानूज, बहादुर, अजायब सिंह सहित अïन्य प्रशिक्षक व खिलाड़ी मौजूद थे

हरियाणा संपादक -Pawan Ror
9729168750
श्रीखाटू श्याम परिवार ट्रस्ट द्वारा 240 वां श्री खाटू श्याम संकीर्तन आयोजित।

श्रीखाटू श्याम परिवार ट्रस्ट द्वारा 240 वां श्री खाटू श्याम संकीर्तन आयोजित।

श्रीखाटू श्याम परिवार ट्रस्ट द्वारा 240 वां श्री खाटू श्याम संकीर्तन आयोजित

हरियाणा  कुरुक्षेत्र, 28 दिसंबर :- श्री खाटूश्याम परिवार ट्रस्ट कुरुक्षेत्र द्वारा गांव मिर्जापुर में 240 वां श्री खाटू श्याम संकीर्तन एवं भंडारा किया गया। ट्रस्ट के प्रधान जयपाल शर्मा ने सभी सदस्यों के साथ पहले तो श्याम जी का श्रृंगार किया। उसके बाद संकीर्तन में आयोजक राजेश कुमार-वेद कुमार परिवार ने श्याम पूजन में हिस्सा लिया। शाहाबाद के गायक श्रवण राज ने श्याम जी के मधुर भजनों से समां बांधा। सेठों का सेठ मेरा श्याम बाबा..., काली कमली वाला मेरा यार है..., मेला लगा है खाटू की गलियों में..., जिसको-जिसको सेठ बनाया, वो क्या रिश्तेदार हैं... इत्यादि भजनों पर श्याम भक्त खूब झूमे। श्याम दरबार में लगातार श्याम जी के जयकारें लगते रहे। श्याम भक्तों ने बारी-बारी से चंवर सेवा की। श्याम जी की हाजिरी भरने के लिए भक्तों में होड़ लगी रही। संकीर्तन के दौरान श्याम जी की गाथा में बताया गया कि यें हारे के सहारे हैं। इनके दरबार से आज तक कोई निराश नहीं आया। संकीर्तन के पश्चात आरती हुई और आरती के बाद श्याम जी का पुष्प श्रृंगार लेने के लिए भक्तों में होड़ लगी रही। अगला खाटू श्याम संकीर्तन 31 दिसंबर को सेक्टर-5 में होगा। इस मौके पर प्रधान जयपाल शर्मा, सचिव पवन गुप्ता, सहसचिव मोहिंद्र पाल गर्ग, कोषाध्यक्ष राकेश गुप्ता, शिवकुमार कौशिक, रमेश साहनी, लक्ष्मी नारायण शर्मा, सुभाष चंद्र शर्मा, प्रद्युम्मन शर्मा, राकेश कुमार, मिहां सिंह, वेणू शर्मा, मंगेश्वर शर्मा, राजेश कौशिक, राजेश कुमार, रविंद्र शर्मा और संजय शर्मा सहित बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल रहीं।
गांव मिर्जापुर में आयोजित श्री श्याम संकीर्तन में हिस्सा लेते श्रद्धालु।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक
94161-91877
जन्मकुण्डली में उच्च गुरु सभी दोषों से मुक्ति दिलाता है।

जन्मकुण्डली में उच्च गुरु सभी दोषों से मुक्ति दिलाता है।


प्रसन्न गुरु खुशहाल जीवन व दरिद्रता का हरण करने में निभाता है अहम भूमिका।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र :- जन्मकुण्डली में ग्रह पीड़ा दोष निवारण के लिए ज्योतिष शास्त्र व आयुर्वेद के प्राचीन ग्रंथों में अनेकों अचूक  उदाहरण, निवारण मिलते है उन्ही में से कुछ  जन कल्याणार्थ भाव से आपकी सेवा में प्रस्तुति - औषधियों, तेल, व्रत एवं दान के द्वारा गुरु पीड़ा मुक्ति
औषधि स्नान-
गुरु के अशुभ होने की स्थिति में औषधि स्नान का विशेष महत्त्व है।
औषधि स्नान से भी गुरुकृत रोग तथा गुरु के अशुभ प्रभाव में कमी आती है।
औषधि स्नान सामग्री-
हल्दी, स्वर्णचूर्ण, शहद, चावल, पीली सरसों, मुलहठी, नमक, शक्कर पीले पुष्प, गूलर आदि किसी भी वृक्ष के ताजे नए पत्ते आदि।
विधि -  औषधि स्नान किसी भी शुक्ल पक्ष के प्रथम गुरुवार से आरम्भ करना चाहिये। इसके लिये ताजे पत्ते एवं पीले पुष्पो के अतिरिक्त सामग्री समान मात्रा में लें अथवा जितनी उपलब्ध हो जाए उसे किसी भी देसी दवा बेचने वाले से खरीद कर कूट-पीस लें। फिर जिस गुरुवार से स्नान करना है उससे एक रात्रि पहले ( बुधवार की रात्रि ) इस सामग्री में से थोड़ी मात्रा में लेकर जल में भिगो दें। चूर्ण न मिला पाने की स्थिति में रात भर के लिये सोने का कोई भी आभूषण अथवा मुद्रिका जल में डाल दें। अगले दिन प्रातः काल उस सामग्री को छान कर स्नान के जल में मिला
दें। ताजे पत्ते व पीले पुष्प इस समय मिलायें। फिर उस जल से स्नान करें।
ऐसा आप प्रारम्भ में एक माह प्रत्येक गुरुवार को औषधि स्नान करें, इसके बाद लगातार अथवा 43 दिन तक स्नान करें। माह में एक बार भी स्नान कर सकते हैं।
यदि आप रोज अथवा प्रत्येक गुरुवार को स्नान करना चाहें तो भी कर सकते हैं। इससे कोई हानि नहीं होती है अपितु गुरुकृत रोग व कष्टों से मुक्ति मिलती है।
बृहस्पति तेल-
आपको यदि कोई गुरुकृत रोग है, स्मरण शक्ति क्षीण हो रही है अथवा बाल असमय सफेद हो रहे हैं तो इस तेल के प्रयोग से पूर्ण लाभान्वित हो सकते हैं।
गुरु तेल बनाने के लिये आप 1 लीटर नारियल तेल लें। उसमें 10 ग्राम पिसी हल्दी मिलाकर गर्म कर लें। फिर उसे छान कर उसमें 15 ग्राम चन्दन का तेल मिश्रित करें। इसके बाद एक पीले कांच की बोतल में तेल डाल कर ढक्कन से बन्द कर सील कर दें। यदि आपको पीले कांच की बोतल न मिले तो किसी भी सफेद कांच की बोतल पर पीली पारदर्शी पन्नी अथवा कागज लपेट कर भी तेल बना सकते हैं। बोतल को सूर्योदय के बाद प्रथम दो घण्टे के लिये धूप में रखें। फिर पीले कपड़े में लपेट कर किसी ठंडे स्थान पर रख दें। अगले दिन पुनः सूर्योदय के समय धूप में रखें। ऐसा 15 दिन तक रखें। दूसरी ओर 500 ग्राम नारियल तेल में गुड़हल के पत्ते डालकर ठीक से गर्म कर लें। पत्ते एकदम से जल कर काले हो जाने चाहिये। इस तेल को भी धूप में तैयार तेल में मिला दें। तेल तैयार है। इस तेल का प्रयोग मालिश की तरह करें। सिर में डालने के लिये इस तेल में 11 बूंद नींबू का रस मिलाकर कर प्रयोग करें। इसके प्रयोग से आपको गुरुकृत रोग व कष्टों से मुक्ति मिलेगी। शरीर में अलग ही प्रकार का तेज अनुभव करेंगे। यह तेल श्वास रोग, दमा विकार, शिरो रोग, बालों का असमय सफेद होना, झडना व अन्य गरुकत रोगों के उपचार में अमृत का कार्य करेगा। स्त्रियां अपनी त्वचा की कान्ति निखारने के लिये इस तेल की मालिश कर सकती हैं। इस तेल के प्रयोग से त्वचा की कान्ति बढ़ती है। सिर में डालने से स्मरण शक्ति में वृद्धि होती है। बालों का सफेद होना अथवा झडना जैसे रोग में यह तेल संजीवनी का कार्य करता है।
बृहस्पति व्रत-
गुरु का अशुभ फल कम करने के लिये व शुभ फल में वृद्धि के लिये ( गुरुवार ) का व्रत बहुत अच्छा प्रभाव देता है। इसके लिये यदि आप मीठा व्रत रखते  हैं तो अधिक अच्छा है अन्यथा बिना नमक के भोजन का व्रत का संकल्प लेकर 7 अथवा 21 गरुवार का मीठा व्रत रखें। इसके लिये पूरे दिन निराहार रहे तो बहुत शुभ है अन्यथा एक समय फलाहार कर सकते हैं। उसके बाद भोजन कर सकते हैं। भोजन पूर्णतः शद्ध व शाकाहारी हो। इस व्रत से श्रीहरि एवं बृहस्पतिदेव की कृपा प्राप्त प्राप्त होती है व गुरुकृत कष्टों से मुक्ति मिल कर मानसिक व शारीरिक शक्ति बढ़ती है। यह व्रत आप किसी भी शुक्ल पक्ष के प्रथम गुरुवार से कर सकते हैं। व्रत वाले दिन पीले वस्त्र
धारण करें अथवा अपनी जेब में पीला रूमाल अथवा पीला वस्त्र रखें। भोजन से पूर्व गाय को हल्दी से तिलक कर दो आटे की लोई अर्थात् आटे के पेड़े के साथ गुड़
चने की गीली दाल खिलायें। भोजन में बेसन से निर्मित किसी भी पदार्थ का भोजन कर सकते हैं। भोजन से पूर्व ॐ ग्रां ग्रीं गौं सः गुरवे नमः का 31, 51 अथवा 108 एक माला जाप करें। प्रातः पीपल के वृक्ष को पीले चन्दन अथवा चन्दन में हल्दी घिस कर तिलक करें व शुद्ध घी का दीपक,
धूप-अगरबत्ती के साथ जल अवश्य अर्पित करें, फिर केसर से अपने मस्तक पर तिलक करें। यदि आप चाहें तो कवच, स्त्रोत अथवा 108 नामों का उच्चारण भी कर सकते हैं। आपने जितने व्रत का संकल्प लिया है उतने व्रत पूर्ण होने पर आप उद्यापन करें तथा गुरु से सम्बन्धित वस्तुओं का दान करें। यदि आप और अधिक व्रत रखना चाहते हैं तो उद्यापन के बाद बिना संख्या के एक समय के सामान्य भोजन का व्रत रख सकते हैं। इस व्रत को करने से धन की प्राप्ति तथा स्थिरता एवं यश की वृद्धि होती है। अविवाहित इस व्रत को करते हैं तो उनके विवाह का योग शीघ्र बनता है। अगर विद्यार्थी यह व्रत करते हैं तो उनकी बुद्धि तीक्ष्ण होती है तथा उच्च शिक्षा के अवसर बढ़ते हैं।
विवाह हेतु विशेष प्रयोग -  जैसे किसी कन्या की
विवाह की आयु हो गई है तथा पत्रिका में विवाह योग भी है परन्तु अज्ञात कारणों से विवाह नहीं हो पा रहा है तो कन्या गुरु यंत्र की उपरोक्त विधि से स्थापना करे। गुरुवार के व्रत के साथ गुरु का कोई मंत्रजाप भी करे तो मेरा विश्वास है कि अनुष्ठान समाप्त होने से पहले उसके सम्बन्ध की बात आरम्भ हो जायेगी। यह कार्य पूर्ण विश्वास एवं श्रद्धा के साथ करना चाहिये।  परिणाम शत-प्रतिशत आशानुकूल निकलते हैं।
प्राचीनकाल से ही दान का अत्यन्त महत्त्व माना गया है। देवताओं तथा ग्रहों की
प्रिय वस्तुओं का दान देने से वे प्रसन्न होते हैं तथा अपनी कृपाओं की वर्षा करते हैं।
यदि आप गुरुकृत पीड़ा भोग रहे हैं तो गुरु की वस्तओं का दान करके गुरुदेव की कृपा
प्राप्त कर सकते हैं। दान करने की वस्तुयें इस प्रकार है।
कोई भी गुरु का उपरत्न ( यदि दान करना चाहे तो ), 300 ग्राम से 11 किलो चने
की दाल व इतना ही गुड़ अपनी सामर्थ्य के अनुसार, कांसे का लोटा, थाली अथवा कोई भी बर्तन चाहे तो दीपक, शुद्ध घी, कपूर, हल्दी, पीली सरसों, पांच फल, कोई भी धार्मिक पुस्तक, पीले पुष्प, चाहे तो सोना भी, पीला वस्त्र, संभव हो तो गुरु यंत्र,शहद, शक्कर, फल, गोरोचन, पीले रंग का up पैन ( कलम ), दक्षिणा आदि। दान करने का श्रेष्ठ समय संध्या  को माना गया है। यह आवश्यक नहीं है कि आप इन सभी का दान करें। आपकी जितनी सामर्थ्य हो, उतना दान करें। किसी से उधार अथवा कर्ज लेकर दान नहीं करें।
जन्मकुण्डली की एक विशेष बात जो आपको बताना भी जरूरी है , जन्मकुण्डली में जब भी किसी भी ग्रह की महादशा,अंतर्दशा या प्रत्यन्तर दशा अपना शुभ या अशुभ फल प्रदान करती है तो वह जन्मकुण्डली के देव गुरु बृहस्पति से आज्ञा लेकर ही प्रदान करती है जब जन्मकुण्डली में देव गुरु बृहस्पति मजबूत,उच्च होगा तो अशुभ फल से भी बृहस्पति देव आपकी सुरक्षा और संकटों से निजात दिला सकते है अब सात्विक रहकर बृहस्पति को आप खुद ही ठीक बेहतर रख सकते है।

हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ।
94161-91877
खाने-पीने की अच्छी आदतें ही करती हैं किडनी का बचाव: डा. सुनील

खाने-पीने की अच्छी आदतें ही करती हैं किडनी का बचाव: डा. सुनील

तले पदार्थों से बनाओ दूरी, किडनी को स्वास्थ्य रखने के लिए सैर जरूरी: डा. सुनील
कैथल, 28 दिसंबर (सतीश भारद्वाज ): फोर्टिस अस्पताल मोहाली के किडनी रोग विशेषज्ञ व ट्रांस्पलांट सर्जन डा. सुनील कुमार ने कहा कि किडनी को स्वास्थ्य रखने के लिए जहां आपको अपने खान-पान की आदतों में सुधार करने की भरसक कोशिश करनी चाहिए, वहीं रोजाना सैर करने की आदत भी बनानी चाहिए। आज पत्रकारों के साथ विशेष रूप से बातचीत करते हुए डा. सुनील कुमार ने कहा कि आम तौर पर 30 से 50 वर्ष की उम्र में तले हुए पदार्थो का प्रयोग कम देना चाहिए। ओर अधिक से अधिक पानी पीने की आदत भी किडनी के रोग से रक्षा करती है।
उल्लेखनीय है कि डा. सुनील ने पीजीआई चंडीगढ़ सहित आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी इंगलैंड से किडनी ट्रांस्पलांट करने की शिक्षा ली हुई है। उनको इस क्षेत्र में 11 वर्ष का अनुभव है तथा वह अब तक एक हजार से ज्यादा लोगों की किडनी ट्रांस्प्लांट कर चुके हैं। उन्होंने इस विषय पर कई खोज भी की हैं।
उन्होंने कहा कि इस रोग के बढऩे के मुख्य कारण हमारे लाइफ स्टाइल व खान-पान की आदतों में आई तबदीली है। इसके साथ-साथ शुगर तथा बल्ड प्रैशर में इजाफा भी इसका मुख्य कारण साबित हो रहा है। उन्होंने कहा कि जरूरत से ज्यादा दर्दनाक दवाईयां, नमक, लाल मीट, शराब, अधिक प्रोटीन वाली खुराक व मिठाई का प्रयोग भी घातक है।
उन्होंने कहा कि थोड़ी बहुत बीमारी होने की स्थिति में खुद ही इलाज करने की कोशिश भी खतरनाक साबित होती है। उन्होंने कहा कि हर साल एक लाख के करीब किडनी रोग से पीडि़त मरीज सामने आते हैं, जिनमें से 90 प्रतिशत ऐसे मरीज मौत के मुंह में चले जाते हैं जो अपना इलाज नहीं करवाते।
उन्होंने कहा कि किडनी ट्रांस्प्लांट करवाने वाला मरीज तकरीबन एक सप्ताह में ही तंदरूस्त हो जाता है तथा आम जीवन जीने के काबिल हो जाता है। उन्होंने कहा कि ऐसे मरीज को दवाई भी बहुत कम खानी पड़ती है।
गोल्डन टैम्पल अमृतसर जा रही संगत को कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन पर दिया गया लंगर।

गोल्डन टैम्पल अमृतसर जा रही संगत को कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन पर दिया गया लंगर।


 
अमृतसर जा रही साध संगत का कुरुक्षेत्र के रेलवे स्टेशन पर हुआ जोरदार स्वागत।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र 27 दिसम्बर :- ट्रेन में दिल्ली से अमृतसर गोल्डन टैम्पल दरबार साहिब जा रही साध संगत का कुरुक्षेत्र के रेलवे स्टेशन पर श्रद्धालुओं ने जोरदार स्वागत किया और उन्हें गुरु का लंगर भी दिया। शान ए पंजाब में जा रही साध संगत का नेतृत्व कर रहे प्रधान प्रीतपाल सिंह चावला ने बताया कि प्रत्येक माह श्री गुरु ग्रंथ साहिब सर्व धर्म सेवा समिति और भाई मति दास सेवा सिमरन सोसाइटी की ओर दिल्ली से अमृतसर दरबार साहिब साध संगत को ले जाया जाता है। साध संगत में शामिल सैंकड़ों लोग दिल्ली से अमृतसर पूरा रास्ता गुरुबाणी का कीर्तन करते हुए जाते हैं। उन्होंने बताया कि इस अवसर पर संस्थाओं के प्रतिनिधि मिंटू सिंह, सतवंत सिंह, हरीश कुमार, विक्की सिंह व जसबीर सिंह बक्शी द्वारा पूरा रास्ता संगत का सहयोग किया जाता है। शान ए पंजाब ट्रेन के कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन पहुंचने पर श्रद्धालुओं के साथ सेवा कर रहे कुरुक्षेत्र ट्रांसपोर्ट कार्पोरेशन के एम डी एवं समाजसेवी राजू ठकराल ने बताया कि अमृतसर दरबार साहिब जाने वाली संगत की कुरुक्षेत्र में लंगर द्वारा सेवा कई वर्षों से की जा रही है। इस लंगर सेवा में गुलशन मेहरा, अशोक कुमार, हैश सुधा, राज कुमार मदान, पंकज ठकराल, दिलबाग झांभ, तरुण ठकराल, सन्नी गुप्ता, टोनी शर्मा, अंकित कंसल, कार्तिक सिंगला, विनोद कक्कड़, हैप्पी शर्मा, विक्की सुधा, राजीव शर्मा इत्यादि स्थानीय स्थानीय श्रद्धालुओं ने साध संगत की सेवा की।
अमृतसर जा रहे श्रद्धालु एवं कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन पर साध संगत की सेवा के लिए पहुंचे स्थानीय श्रद्धालु।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक
94161-91877

संपादक- Pawan Ror - 9729168750
नये साल का तौहफा देते हुए एएसआई राजपाल  को किया पदौन्त ।

नये साल का तौहफा देते हुए एएसआई राजपाल को किया पदौन्त ।

नये साल का तौहफा देते हुए एएसआई राजपाल  को किया पदौन्त ।

हरियाणा कुरुक्षेत्र : - जिला पुलिस कुरुक्षेत्र के एक एएसआई  को नये साल का तोहफा देते हुए पदौन्त करके एस आई बनाया गया। एएसआई राजपाल को पदौन्त करके एस आई बनाया गया। यह जानकारी पुलिस प्रवक्ता रोशन लाल ने दी।
यह जानकारी देते हुए पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि एएसआई राजपाल वर्ष 1991 में सिपाही के पद पर भर्ती हुआ। सिपाही राजपाल ने अपनी बेसिक ट्रेनिग उपरान्त अपनी डयुटी इमानदारी व लगन से करते हुए वर्ष 2004 मे मुख्य सिपाही हेतु प्रमोशन  कोर्स पास करके मुख्य सिपाही पद कर पदौन्ति प्राप्त की। इसके उपरान्त वर्ष 2013 मे दुसरी प्रमोशन  मिलने के बाद करीब 15 बार भिन्न- भिन्न पुलिस  चोंकियो  मे बतौर चोंकी  ईन्चार्ज रहे। राजपाल ने हमेशा अपनी ड्यूटी ईमानदारी एवं लग्न से पूरी  की है। वर्तमान मे उनकी डयुटी थाना पिहोवा मे बतौर अनुसंधान अधिकारी है। जिसके सर्विस रिकॉड को देखते हुए एएसआई के पद से पदौन्त करके एस आई बनाया। पुलिस अधीक्षक कुरुक्षेत्र, श्रीमती आस्था मोदी  ने स्टार लगाकर बधाई  दी तथा भविष्य में भी अपनी ड्यूटी को इसी प्रकार लग्न एवं ईमानदारी से करने को कहा।
हरियाणा संपादक - Pawan Ror
9729168750
उत्तर भारत में पिहोवा पहला हल्का होगा जहां दिव्यांग भी अब चला सकेंगे मोटर साईकिल : संदीप।

उत्तर भारत में पिहोवा पहला हल्का होगा जहां दिव्यांग भी अब चला सकेंगे मोटर साईकिल : संदीप।



खेलमंत्री संदीप ने लिया भारत साधु समाज हरियाणा के अध्यक्ष  महन्त बंशी पुरी जी महाराज का आशीर्वाद।

हरियाणा  पिहोवा 27 दिसम्बर :- हरियाणा के  खेलमंत्री युवा कार्यक्रम मंत्री संदीप सिंह ने कहा कि पिहोवा उत्तर भारत का पहला ऐसा हल्का होगा जहां पर दिव्यांगजन की दोपहिया मोटर साईकिल चला सकेंगे और अपने हाथों से खाना खा सकेंगे। उनको इस कार्य को लिए किसी का सहारा लेने की जरुरत नहीं होगी। इस हल्के के दिव्यांग जनों को अमेरिका से आधुनिक तकनीकी के बाजु और टांग मंगवाए जा रहे है और फरवरी माह में हल्का के इस प्रकार के दिव्यांग जनों को वितरित किए जाएंगे।
खेलमंत्री संदीप सिंह शुक्रवार को पिहोवा हल्के में लोगों की समस्याओं का समाधान करने के उपरांत पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इससे पहले खेलमंत्री संदीप सिंह ने गांव असमानपुर के गुरुद्वारा साहिब में, गांव नानकपुरा के राजकीय प्राथमिक पाठशाला, गांव रुआं की हरिजन चौपाल, गांव बटेड़ी के अम्बेडकर भवन, गांव अरुनैचा की गुर्जर धर्मशाला, गांव थेमल बोड़ा की राजकीय प्राथमिक पाठशाला में लोगों की समस्याओं को सुना और उनका समाधान करने के लिए सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए। इस दौरान खेलमंत्री ने माडल टाउन में श्री दक्षिणा काली पीठ मंदिर में पूजा-अर्चना की और मंहत बंसी पूरी जी महाराज ने खेलमंत्री का स्वागत किया और अपना आशीर्वाद दिया। इतना ही नहीं जब खेल मंत्री से मंदिर से गांव के दौरों की तरफ मिले तभी शहर के मुख्य मार्ग पर एक मोटर साईकिल ने काफिले को हाथ देकर रोकने का इशारा किया। इस इशारे को देखते ही खेलमंत्री ने अपनी गाड़ी को रुकवाया और मोटर साईकिल चालक की समस्या सुनी और उनका समाधान करने के सम्बन्धित विभाग के अधिकारी को निर्देश भी जारी किए।
खेलमंत्री ने कहा कि हल्का के प्रत्येक व्यक्ति को मिलने और समस्या रखने का समय दिया जाएगा। इस क्षेत्र के युवाओं, बुजुर्गो और महिलाओं के साथ-साथ तमाम वर्ग के लोगों के लिए काम किया जाएगा। इस क्षेत्र का विकास दिन-रात मेहनत करके किया जाएगा।
खेलमंत्री ने कहा कि पिहोवा में दिव्यांग जनों को भी आगे बढऩे के अवसर मुहैया करवाएं जाएंगे ताकि जिन लोगों की एक बाजु या टांग नहीं है उनको भी किसी का सहारा लेने की जरुरत नहीं होगी। इसके लिए यूएसए से आधुनिक तकनीकी के कृत्रिम अंग मंगवाए गए है और फरवरी माह में इन दिव्यांगजनों को वितरित किए जाएंगे ताकि दिव्यांगजनों को किसी का सहारा न लेना पड़े और वह खुद मोटर साईकिल चलाकर अपना काम और अपने हाथों से खाना खा सके। इस हल्के में अपने व्यक्तिगत काम करने के लिए नहीं लोगों की सेवा करने के लिए इस मुकाम तक पहुंचे है और जब से लोगों ने इस मुकाम तक पहुंचाया है तबसे दिन-रात काम करके हल्के के लम्बित कार्यो को किया जा रहा है। इस हल्के में पिछले कई सालों से सडक़ों, अस्पतालों, अनाज मंडी सहित अन्य विकास कार्यो की फाईले पेंडिंग पड़ी हुई थी, इन सभी फाईलों को निकलवाने का काम तेजी के साथ किया जा रहा है।
उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 से लेकर 2019 तक लगभग 85 खिलाडिय़ों की नगर पुरस्कार राशि का मामला अटका हुआ था, इस मामले की तह तक जाने के बाद अधिकारियों को आदेश दिए गए है कि वर्ष 2013 से 2019 तक 85 खिलाडिय़ों के 3 करोड़ रुपए के नगद अवार्ड राशि को जारी किया जाए। इस प्रदेश के खिलाडिय़ों को उनके हकों से वंचित नहीं किया जाएगा और खेल विभाग तथा पिहोवा हल्के से सम्बन्धित विकास कार्यो की कोई भी फाईल लम्बित नहीं रहेगी। इस प्रदेश के सभी खिलाडिय़ों और पिहोवा हल्के के लोगों को सरकार की तमाम योजनाओं का सीधा फायदा मिलेगा और इस मामले में जो भी रुकावट आऐगी, उसे दूर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिहोवा हल्के का विकास करना और प्रदेश के खिलाडिय़ों को देश के लिए तैयार करना ही उनका लक्ष्य है और इस लक्ष्य के लिए दिन-रात मेहनत करेंगे।
हरियाणा संपादक - Pawan Ror
9729168750
सड़क  सुरक्षा नियमों से किया जागरूक

सड़क सुरक्षा नियमों से किया जागरूक


एक दिन में 415 लोग सड़क दुघर्टना का शिकार होते हैं : डॉ अशोक वर्मा।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र :- आज राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों को सड़क सुरक्षा नियमों बारे जानकारी देकर जागरूक किया गया। यह जानकारी अपराध दृश्य दल के विशेषज्ञ डॉ अशोक कुमार वर्मा द्वारा दी गई। विद्यार्थियों को जागरूक करते हुए डॉ अशोक कुमार वर्मा ने बताया कि हमारे देश में वर्ष 2018 में 467044 सड़क दुघर्टनाएं हुई हैं। इन दुर्घटनाओं में 151417 लोगों की मौत हुई है। यदि इनका दैनिक औसत निकाला जाए तो एक दिन में 1280 सड़क दुघर्टनाएं हुई है जिनमें एक दिन में 415 लोग सड़क दुघर्टना का शिकार हुए हैं। इस प्रकार एक घंटे में 17 लोग मारे गए। उन्होंने इन पर गहन चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि ये आंकड़े बहुत ही दुखदाई है। ये दुर्घटनाएं तेज़ रफ़्तारी, लापरवाही, ओवरस्पीड और नियमों की अनदेखी का परिणाम है। उन्होंने विद्यार्थियों को जागरूक करते हुए कहा कि सभी का कर्तव्य है कि नियमों की जानकारी प्राप्त करें और उनका दृढ़ता से पालन करें। इस अवसर पर विद्यालय के अध्यापक गण आदि उपस्थित रहे।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक
94161-91877
महिला योग शक्ति दिवस आयोजित  योग ही जीवन है : डा. विभा।

महिला योग शक्ति दिवस आयोजित योग ही जीवन है : डा. विभा।

महिला योग शक्ति दिवस आयोजित  योग ही जीवन है : डा. विभा।
   
हरियाणा  कुरुक्षेत्र 27 दिसम्बर : - भारतीय योग संस्थान कुरुक्षेत्र की शहरी-2 इकाई द्वारा सैक्टर-8 के स्कूल में महिला योग शक्ति दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर केन्द्रीय विद्यालय सैक्टर-4 की प्रिंसिपल डा. विभा ने मुख्यातिथि के तौर पर शिरकत की जबकि प्रांतीय समिति हरियाणा के सदस्य सुरेश कुमार विशिष्ट अतिथि के तौर पर कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यातिथि डा. विभा ने अपने सम्बोधन में बताया कि योग ही जीवन है। आज आधुनिकता के नाम पर जो विकास हो रहा है, वह हमें रोगो की ओर धसीट रहा है। उन्होंने बताया कि रोगों का नाश केवल योग से ही तो संभव है। प्रांतीय समिति सदस्य सुरेश कुमार ने कहाकि आमतौर पर हम योग को प्राथमिकता नहीं देते हैं, जोकि स्वस्थ जीवन जीने के लिए आवश्यक है। इस कार्यक्रम में साधिकाओं द्वारा योग पर आधारित संगीतमयी नाटिका प्रस्तुत की गई। योग संबंधी कविताएं व भजन प्रस्तुत किए गए। जिला प्रधान के के कौशल ने कहा कि हमारी योग साधिकाएं जल्दी ही महिलाओं के लिए और अधिक योग साधना केंद्र खोलने के लिए प्रयास कर रही है। डा. राम चन्द्र सैनी ने भी महिला योग शक्ति बारे अपने विचार रखे। कार्यक्रम मंच संचालन सन्तोष कुमारी ने किया। इस अवसर पर विशेष  तौर पर मनी राम सैनी, वीना शर्मा, निर्मल गुप्ता व संस्थान के सभी जिला एवं क्षेत्रीय अधिकारी मौजूद रहे।
महिला योग शक्ति दिवस के अवसर पर प्रस्तुति देते हुए योग साधिकाएं।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक

उत्तरभारत  की प्रसिद्ध  ज्योतिषचार्य मीना कुमारी को  जालंधर में किया गया सम्मानित।

उत्तरभारत की प्रसिद्ध ज्योतिषचार्य मीना कुमारी को जालंधर में किया गया सम्मानित।




उत्तरभारत  की प्रसिद्ध  ज्योतिषचार्य मी
ना कुमारी को  जालंधर में किया गया सम्मानित

पंजाब जालंधर  :-अखिल भारतीय ज्योतिष संस्थान द्वारा 64 वे अस्ट्रोलोगिकल कन्वेंशन में पंच तत्व स्पिरिचुअल एंड चैरिटेबल ट्रस्ट की फाउंडर एवं अध्यक्षा  ज्योतिषचार्य और उनके द्वारा किये गए उत्कृष्ट कार्यो के लिए समस्त जन के सम्मुख  जी डी वशिष्ट और लोकेश कुमार धमीजा द्वारा उत्तरभारत की प्रख्यात ज्योतिषाचार्य मीना कुमारी को समानित किया गया। पत्रकारों  से बातचीत के दौरान अध्यक्ष जी ने बताया उनके द्वारा किये गए सामाजिक  कार्यो के लिए उन्हें सम्मानित किया गया है। मीना कुमारी ने बताया कि 84 लाख योनियों के भुगतान के बाद मनुष्य योनि नसीब होती है इस योनि में जन्म लेकर भी जो व्यक्ति जनहित कार्य में तत्पर रहते   है उन्ही का इस योनि में जन्म लेना सार्थक होता है और मोक्ष के अधिकारी होते है।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक
94161-91877
सूर्य ग्रहण पर कुरुक्षेत्र की धरती पर है तुला दान का विशेष महत्व।

सूर्य ग्रहण पर कुरुक्षेत्र की धरती पर है तुला दान का विशेष महत्व।



भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं में भी बताया गया है तुला दान का विशेष महत्व।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र 26 दिसम्बर : - भारत साधु समाज के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं जयराम संस्थाओं के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी की प्रेरणा से सूर्यग्रहण के अवसर पर जयराम संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य प. रणबीर भारद्वाज तथा आचार्य प. राजेश प्रसाद लेखवार ने विद्वान् ब्राह्मणों एवं सैंकड़ों ब्रह्मचारियों के साथ मुख्य यज्ञशाला में नियमित हवन यज्ञ एवं मंत्रोच्चारण के साथ सर्वकल्याण व देशहित में सुख समृद्धि के लिए पाठ किया। इस मौके पर दो दिन तक चले अखण्ड भण्डारे में हजारों की संख्या में संत महापुरुषों एवं विभिन्न राज्यों से आये श्रद्धालुओं ने भोजन व प्रसाद ग्रहण किया। ब्रह्मचारी रोहित कौशिक ने बताया कि परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी की प्रेरणा से नेपाल से आये विनोद मोरे, कोलकाता से योगेश कुमार, दिल्ली से के के ग्रोवर, जयपुर से ओंकार प्रसाद, बीकानेर से रामदेय अग्रवाल, भोपाल से राजनाथ सिंह, कृष्ण सिंगला, राजेश सिंगला, देवेन्द्र सिंगला इत्यादि यजमानों ने अपने परिवारों के साथ तुला दान किया। तुला दान में सप्तनाजा दान किया गया। आचार्य लेखवार ने बताया कि सूर्यग्रहण के अवसर पर भगवान श्री कृष्ण के श्री मुख से उत्पन्न हुई गीता की जन्मस्थली कुरुक्षेत्र में तो तुला दान का विशेष महत्व है। उन्होंने बताया कि भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं में तुला दान का कई जन्मों के पुण्य का महत्व बताया गया है। आचार्य लेखवार के अनुसार सूर्य ग्रहण के अवसर पर तुलादान को महादान माना जाता है। इस तुला दान को हवन के बाद ब्राह्मण पौराणिक मंत्रों का उच्चारण करते हैं, वे लोकपालों का आह्वान करते हैं। उन्होंने बताया कि दान करने वाला अपनी क्षमता अनुसार धातु व अनाज इत्यादि का दान देता है। जितना दान सामान्य पुरोहितों को दिया जाता है, उसका दोगुणा यज्ञ कराने वाले को दिया जाता है। आचार्य लेखवार के अनुसार तुला (तराजू) के रूप में यजमान भगवान विष्णु का स्मरण करता है, फिर वह तुला की परिक्रमा करके एक पलड़े पर चढ़ जाता है, दूसरे पलड़े पर ब्राह्मण लोग दान सामग्री रख देते हैं। तराजू के दोनों पलड़े जब बराबर हो जाते हैं, तब पृथ्वी का आह्वान किया जाता है। दान देने वाला तराजू के पलड़े से उतर जाता है, फिर दान सामग्री का आधा भाग गुरु को और दूसरा भाग ब्राह्मण को उनके हाथ में जल गिराते हुए देता है। उन्होंने बताया कि प्राचीनकाल में राजाओं के साथ मंत्री भी यह दान करते थे। इसके साथ गांव दान भी किया जाता था। इस दान से दान देने वाले को विष्णु लोक में स्थान मिलने की बात कहीं गई है। उन्होंने बताया कि प्रजापति ब्रह्मा ने सभी तीर्थों को तौला था। शेष भगवान के कहने से तीर्थों को तौलने का इन्तजाम किया गया था, इसका उद्देश्य तीर्थों की पुण्य गरिमा का पता लगाना था। ब्रह्मा ने तराजू के एक पलड़े पर सभी तीर्थ, सातों सागर और सारी धरती रख दी थी। जयराम विद्यापीठ में अखण्ड भण्डारे में के के कौशिक, सत नारायण गुप्ता, श्रवण गुप्ता, राजेन्द्र सिंघल, के के गर्ग, टेक सिंह लौहार माजरा, खरैती लाल सिंगला, कुलवंत सैनी, राजेश सिंगला, सतबीर कौशिक इत्यादि ने नियमित सेवा दी।
 जयराम विद्यापीठ में सूर्यग्रहण के अवसर पर तुला दान करवाते हुए यजमान, मुख्य यज्ञशाला में पूजन एवं यज्ञ करते हुए तथा जयराम विद्यापीठ में पहुंचे श्रद्धालु एवं संत जन।

हरियाणा संपादक -पण्डित प्रमोद कौशिक
94161-91877
कुरुक्षेत्र सूर्य ग्रहण मेले पर श्रद्धालुओं के स्नान के लिए तैयारियों पूरी: गर्ग।

कुरुक्षेत्र सूर्य ग्रहण मेले पर श्रद्धालुओं के स्नान के लिए तैयारियों पूरी: गर्ग।

अम्बाला मंडल के आयुक्त विनित गर्ग व उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने किया मेला क्षेत्र में अंतिम तैयारियों का निरीक्षण

हरियाणा  कुरुक्षेत्र 25 दिसम्बर :- अम्बाला मंडल के आयुक्त विनित गर्ग ने कहा कि कुरुक्षेत्र सूर्य ग्रहण का स्पर्श 8 बजकर 15 मिनट पर होगा और 10 बजकर 55 मिनट पर मोक्ष का समय होगा। इस दौरान कुरुक्षेत्र के ब्रहमसरोवर, सन्निहित सरोवर, ज्योतिसर तीर्थ और पिहोवा तीर्थ सहित अन्य सरोवरों में लगभग 10 से 15 लाख श्रद्धालु आस्था की डूबकी लगाएंगे। इसके अलावा देश के कोने-कोने से महान साधु संत भी शाही स्नान करेंगे। इन संतों के लिए युद्घिष्ठर घाट पर शाही स्नान की व्यवस्था की गई है। प्रशासन की तरफ से श्रद्धालुओं  के लिए हर प्रकार के पुख्ता इंतजाम किए गए है।
वे लघु सचिवालय के सभागार में सूर्य ग्रहण मेले की तैयारियों को लेकर अधिकारियों की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। इससे पहले आयुक्त विनित गर्ग ने अधिकारियों से सूर्य ग्रहण मेले को लेकर की गई तैयारियों की फीडबैक रिपोर्ट ली। इसके उपरांत आयुक्त विनित गर्ग, उपायुक्त डा. एसएस फुलिया, पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी, एडीसी पार्थ गुप्ता, एसडीएम अश्वनी मलिक, एसडीएम अनिल यादव, सीईओ केडीबी गगनदीप सिंह सहित अन्य अधिकारियों ने मेला क्षेत्र के तमाम साईटस का निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा लिया और कमियों को दूर करने के आदेश भी दिए है। उन्होंने कहा कि ब्रह्मïसरोवर के आस-पास की सुरक्षा व्यवस्था के लिए 4 आईएएस अधिकारी, 13 एचसीएस अधिकारी, 6 से ज्यादा आईपीएस अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। इतना ही नहीं सूर्य ग्रहण मेले के क्षण-क्षण की जानकारी, ट्रेनों और बसों की समय सारणी के साथ-साथ प्रत्येक सेक्टर मैजिस्ट्रेट और आपातकालीन मोबाइल नम्बर की जानकारी प्रशासन की वैबसाईट। कुरुक्षेत्रडाटजीओवीडाटइन पर भी ली जा सकती है।
प्रशासन की तरफ से श्रद्धालुओं  के लिए बिजली, पीने के पानी, शौचालयों की व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ अन्य प्रकार के इंतजाम कर दिए गए है। इस मेले में समाजसेवी संस्थाओं द्वार भंडारों का आयोजन शुरू कर दिया गया है। प्रशासन की तरफ से भंडारों के लिए अलग जगह मुहैया करवाई गई है। उन्होंने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले में भीड़ पर नियंत्रण रखने और सुरक्षा मुहैया करवाने के साथ-साथ कानून व्यवस्था बनाए रखने पर पुलिस का फोकस रहेगा। इसलिए मेला क्षेत्र को 20 सैक्टरों में बांटा गया है। इसके अलावा पिहोवा, ज्योतिसर में भी पुलिस फोर्स की नियुक्ति की गई है। इस मेले में तकरीबन 5 हजार पुलिस कर्मचारियों की डयूटी लगाई गई है। उन्होंने कहा कि आपातकालीन स्थिति को जहन में रखते हुए ब्रहमसरोवर के चारों तरफ एक लेन को खाली रखा जाएगा, इसी तरह सैक्टर 2 केडीबी रोड़ से लेकर ब्रहमसरोवर तक भी एक लेन को आपातकालीन स्थिति को जहन में रखते हुए खाली रखा गया है।
उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले में संयुक्त रुप से 25 हेल्प डेस्क बनेंगे, 12 जगहों पर रिशपेशन सेंटर, 2 मीडिया सेंटर, 20 हजार लोगों के लिए मेला क्षेत्र में सोने की व्यवस्था, ब्रहमसरोवर की सदरियों में 5 हजार लोगों तथा धर्मशालाओं में करीब 20 हजार लोगों के ठहरने की व्यवस्था की गई है। पीने के पानी के लिए 200 अस्थाई टेप प्वाईंट, 40 पानी के टैंकर और 5 हजार कैम्परों की व्यवस्था की गई है, 850 केमिकल मोबाईल शौचालय, लाईटिंग, पार्किंग, बचाव टीमों, मेडिकल कैम्प, 37 फायर फाईटिंग और 28 मेजर नाका प्वाईंट सहित तमाम प्रकार की व्यवस्थाएं की गई है। अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले को लेकर छोटे से छोटे पहलू को जहन में रखकर तैयारी की गई है। इस मेले में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मेडिकल, पीने के पानी, शौचालयों, स्वागत कक्ष, बचाव टीमे, श्रद्धालुओं  के ठहरने की व्यवस्था, बीमा की व्यवस्था, महिलाओं के लिए ब्रहमसरोवर पर चैंज करने के लिए अलग से व्यवस्था की गई है।
केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले में श्रृद्घालुओं के लिए पहले बार वाटर और फायर प्रूफ टेटेंज की व्यवस्था की गई है। साधुओं की गरिमा को ध्यान में रखते हुए स्नान की व्यवस्था की है। सन्निहित सरोवर पर भी हर प्रकार की व्यवस्था की जा रही है। केडीबी के सीईओ एवं सूचना, जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग के संयुक्त निदेशक गगनदीप सिंह ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले पर 50 लाख की लागत से आटोमैटिक सफाई करने की मशीने पहुंच गई है। इन मशीनों से निरंतर सफाई की जाएगी और कुछ समय बाद 50 लाख की लागत से सफाई मशीनों की ओर व्यवस्था की जाएगी। केडीबी के मेडिटेशन सेंटर में 500 लोगों के ठहरने की व्यवस्था के प्रबंध किए है। उन्होंने कहा कि सभी स्वागत कक्षों पर दिव्यांगों के लिए 50 व्हील चेयर की व्यवस्था की गई है। इस मौके पर एसडीएम अश्वनी मलिक, एसडीएम अनिल यादव, डीएसपी अजय राणा, डीएसपी भारत भूषण, डीआरओ डा. चांदी राम चौधरी, डीडीपीओ रेनू जैन सहित जिला के सभी अधिकारी मौजूद थे।
पर्यटकों को गाईड करने के लिए बनेंगे 12 जगहों पर स्वागत कक्ष।
अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने कहा कि प्रशासन की तरफ से देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं  को सही और सटीक जानकारी देने तथा गाईड करने के उदेश्य से 12 स्वागत कक्ष भी स्थापित किए जाएंगे, जिनमें पिपली बस स्टैंड, केडीबी रोड़ अमीन चौंक, रेलवे स्टेशन कुरुक्षेत्र पर 2, पुराना बस स्टेंड, पुराना रेलवे स्टेशन, पर्यटन सूचना केन्द्र पिपली, पर्यटन सूचना केन्द्र छटी पातशाही गुरुद्वारा के सामने तथा पर्यटन सूचना केन्द्र नंदा जी स्मारक अर्जुन चौंक, मिर्जापुर अस्थाई बस स्टैंड, नरकरतारी अस्थाई बस स्टैंड, झांसा रोड़ अस्थाई बस स्टैंड, नई अनाज मंडी अस्थाई बस स्टैंड, इत्यादि शामिल है। उन्होंने कहा कि इन स्वागत कक्षों के लिए अधिकारियों की डयूटियां लगा दी गई है और इन सभी जगहों पर बड़े-बड़े फलैैक्स के माध्यम से मेला क्षेत्र का नक्शा, आपातकालीन नम्बर भी अंकित किए जाएंगे। सभी स्वागत कक्ष पर 25 दिसम्बर से कर्मचारी अपनी डयूटी पर तैनात रहेंगे।
25 जगहों पर बनेंगे हेल्प डेस्क वन स्टाप सेंटर।
एडीसी पार्थ गुप्ता ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले पर लोगों को पल-पल की सूचना देने और सूर्य ग्रहण मेले से सम्बन्धित तमाम जानकारियां देने के लिए 25 जगहों पर हेल्प डेस्क वन स्टाप सेंटर स्थापित किए गए है। जिनमें ब्रहमसरोवर पर सरदिया नम्बर 78, 222, 368, वीवीआईपी घाट, सदरियां नम्बर 642, सदरियां नम्बर 795, द्रोपदी कूप के सामने सन्निहित सरोवर, नीलकंठी यात्री निवास, कांटा चौंक, अशोक राईस मिल अमीन रोड़, नई अनाज मंडी, सैनी पब्लिक स्कूल, प्रजापति धर्मशाला, रावतुला राम चौंक, मैन गेट, मोहन नगर चौंक, पुलिस लाईन, आयुर्वेदिक चौंक सैक्टर 8, होटल मैनेजमेंट संस्थान, अस्थाई बस स्टैंड नरकरतारी, पर्ल रिजार्ट झांसा रोड़, नया बस स्टैंड, पुराना बस स्टैंड, विज्डम वल्र्ड स्कूल, थानेसर रेलवे स्टेशन, नया रेलवे स्टेशन, अस्थाई बस स्टैंड मिर्जापुर, अस्थाई बस स्टैंड झांसा रोड़ आदि शामिल है। इन सेंटरों पर तमाम प्रकार की जानकारियां और श्रृद्घालुओं को हर सम्भव सहायता मुहैया करवाई जाएगी।
मेला क्षेत्र में अस्थाई अस्पताल के अलावा बनेंगी 30 मेडिकल पोस्ट।
अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले पर ब्रहमसरोवर के पास 15 बैड का अस्थाई अस्पताल बनाया गया है हालांकि एलएनजेपी अस्पताल में भी 50 बैड की व्यवस्था रहेगी। ब्रहमसरोवर की सदरियों में 10 मेडीकल पोस्ट और 30 जगहों पर मेडीकल टीमों की नियुक्ति की गई है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से 21 एम्बलैंस के भी प्रबंध किए गए है। इन जगहों पर तमाम सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई है। उन्होंने कहा कि मरीजों की मदद के लिए और तमाम प्रकार की सहायता के लिए रेडक्रास सोसायटी द्वारा 150 स्वयं सेवकों की भी नियुक्ति की गई है।
ब्रहमसरोवर व अन्य जगहों के लिए किया 30 मोटर बोट का प्रबंध।
सूर्य ग्रहण मेले को लेकर पानी में डूबने से बचाने के लिए 30 मोटर बोट का ब्रहमसरोवर, सन्निहित सरोवर, ज्योतिसर व पिहोवा सरस्वती तीर्थ के लिए प्रबंध किया गया है। इसके अलावा राजस्व विभाग की तरफ से 30 टीमें डूबने से बचाने के लिए नियुक्त की गई है, जिसमें गोताखोर, पुलिस कर्मी और प्रशिक्षित कर्मी की डयूटी लगाई गई है।
प्रशासन ने जारी किए हेल्पलाईन नम्बर।
सूर्य ग्रहण मेले को लेकर हेल्प लाईन नम्बर जारी किए है, सूचना लेने के लिए कोई भी व्यक्ति इन नम्बर को डायल कर सकता है, जिसमें नागरिक काल सेंटर का नम्बर 1800-2000-023, बच्चों के लिए 1098, महिलाओं के लिए 1091, पुलिस नियंत्रण कक्ष में 100 नम्बर, अग्निशमन के लिए 101, एम्बूलेंस के लिए 108, जिला प्रशासन के 01744-220756, 220032, 220271 और केडीबी विकास बोर्ड के 01744-270187 व 259505 शामिल है।
सूर्य ग्रहण मेले के लिए चलेगी 42 स्पेशल मेला ट्रैने।
उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले के लिए रेलवे विभाग की तरफ से अम्बाला से दिल्ली रेल मार्ग पर 35 टे्रने और कुरुक्षेत्र से जींद रेलवे मार्ग पर 7 स्पेशल मेला ट्रैने चलाई जाएंगी। इन ट्रेनों का टाईम टेबल और शैडयूल तैयार कर लिया गया है। प्रत्येक ट्रेन 5 मिनट के लिए कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन पर रुकेंगी और नए और पुराने रेलवे स्टेशन पर अतिरिक्त टिकट काउंटर भी बनाए जाएंगे।
किन-किन जिलों से कितनी चलेंगी मेला स्पेशल बसे।
उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि 25 व 26 दिसम्बर के लिए सोनीपत, चरखी दादरी, गुरुग्रमा, झज्जर, नारनौल, फरीदाबाद, रोहतक, दिल्ली, भिवानी, फतेहाबाद, हिसार, पलवल, नूह, सिरसा व रेवाड़ी से 10-10 बसें, कैथल से 30, अम्बाला से 20, यमुनानगर से 20, पानीपत से 30, करनाल से 30, पंचकूला से 20, जींद से 30, चंडीगढ़ से 20 स्पेशल मेला बसें कुरुक्षेत्र के लिए चलेंगी।
लोकल बस सेवा का क्या रहेगा रुट।
उपायुक्त ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले को लेकर लोकल बस सेवा में हर 15 मिनट बसे चलेंगी, इसमें पिपली से थानेसर 5 बसे, मिर्जापुर से थर्ड गेट तक 2 बसे, विज्डम वल्र्ड स्कूल से अनाज मंडी चौंक तक 2 बसे, झांसा चुंगी से थानेसर तक 2 बसे, पिहोवा रोड़ से यूनिवसिर्टी द्वितीय गेट तक 2 बसे, रेलवे स्टेशन से गीता स्कूल तक 2 बसे चलेंगी। उन्होंने बताया कि कुरुक्षेत्र-चीका-गुहला से 10 बसे अस्थाई बस स्टैंड नरकरतारी तक, कुरुक्षेत्र-पिहोवा-पटियाला से 15 बसे, कुरुक्षेत्र-अम्बाला वाया झांसा से 8 बसे झांसा चुंगी तक, कुरुक्षेत्र-यमुनानगर मैन बस स्टैंड 15 बसे, सलारपुर-किरमच से अनाज मंडी तक 5 बसे चलेंगी।
कहां-कहां से वाहनों का रुट होगा डायवर्ट।
एसपी आस्था मोदी ने कहा कि 25 व 26 दिसम्बर को जिला कैथल व पटियाला के तरफ से आने वाला ट्रैफिक जिसे सहारनपुर, हरिद्वार, हिमाचल प्रदेश, उतराखंड जिला यमुनानगर के क्षेत्र में जाना है, वह वाहन पिहोवा बाईपास एनएच 65 से होकर इस्माईलाबाद बाईपास से होते हुए गांव ठोल, कुरड़ी, नलवी शाहबाद के रास्ते से यमुनानगर की तरफ जा सकते है। इसी प्रकार 25 व 26 दिसम्बर दो दिनों के लिए जिला कैथल के तरफ से आने वाले टै्रफिक जिसे सहारनपुर, हरिद्वार या आगे यूपी में या इंद्री, लाडवा आगे यमुनानगर में जाना है, उसे पिहोवा से ढांड, कैथल से ढांड को गांव कौल के रास्ते वाया निगदू, नीलोखेड़ी व इन्द्री के रास्ते होते हुए यमुनानगर की तरफ जाएंगे। सूर्य ग्रहण मेले के लिए दो दिन पंजाब व पटियाला के रास्ते जो ट्रैफिक पिहोवा आएगा, उसे कुरुक्षेत्र से होकर करनाल, पानीपत, सोनीपत और इसके आगे यूपी व दिल्ली इत्यादि जाना है, वह ट्रैफिक पिहोवा से ढांड और ढांड से कौल के रास्ते अपने गंतव्य स्थान पर जाएंगे। एडीसी ने कहा कि 25 व 26 दिसम्बर को जो ट्रैफिक हिमाचल प्रदेश, उतरप्रदेश, उतराखंड से लाडवा के रास्ते आम तौर पर कुरुक्षेत्र से होकर पिहोवा, कैथल, पंजाब के जिला संगरुर या पटियाला आदि को जाती है, वह ट्रैफिक कुरुक्षेत्र से न जाकर वाया लाडवा, बाबैन, शाहबाद, नलवी, ठोल, इस्माईलाबाद, पिहोवा से होकर अपने गंतव्य स्थान को जाएगा। जो ट्रैफिक जिला यमुनानगर की तरफ से लाडवा-कुरुक्षेत्र के रास्ते पिहोवा व पंजाब को जाएगा, वह ट्रैफिक 25 व 26 दिसम्बर को वाया लाडवा, बाबैन, शाहबाद, नलवी, ठोल व इस्माईलाबाद से होते हुए अपने गंतव्य स्थान को रवाना होगा। इसी प्रकार 25 व 26 दिसम्बर को जो ट्रैफिक जिला यमुनानगर की तरफ से लाडवा-कुरुक्षेत्र होकर ढांड, कैथल व उससे आगे जाएगा, वह ट्रैफिक लाडवा से इंद्री, भादसों, नीलोखेड़ी के रास्ते ढांड-कैथल होते हुए अपने-अपने गंतव्य स्थान को जाएगा।
सूर्य ग्रहण मेले को लेकर बनेंगे 26 पार्किंग स्थल।
उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले को लेकर शहर के चारों तरफ 26 पार्किंग स्थल बनाए जाएंगे। जिसमें गीता ज्ञान संस्थानम के सामने बीआर अम्बेडकर चौंक के पास, सलारपुर रोड़ पर ज्ञान राईस मिल, सलारपुर रोड़ पर एमडी मार्डन राईस मिल, डीपी कालोनी, अमीन रोड़ पर ब्रहमानंद मंदिर के पास, सलारपुर रोड़ नई अनाज मंडी, गांव मिर्जापुर के पास अस्थाई बस स्टैंड पर, गांव दयालपुर के पास कृषि योग्य भूमि पर, पिहोवा रोड़ पर अस्थाई बस स्टैंड के पास, पिहोवा रोड़ पर राल पैलेस के पास, पिहोवा रोड़ पर राधा स्वामी सत्संग भवन के पास व सामने, झांसा रोड़ पर बहादुरपुरा चौंक गांव भिवानी खेड़ा के पास, झांसा रोड़ पर श्याम कालोनी के पास, पारस धर्मकांटा झांसा रोड़ पर अस्थाई बस स्टैंड के पास, झांसा रोड़ पर खादी ग्रामोद्योग केन्द्र के पास, पुलिस अधीक्षक निवास के सामने, सैक्टर 10, राधा मृदुल बिहारी मंदिर पिपली के सामने, हुडा कार्यालय सैक्टर 3 व 4 के डिवाईडर के पास, उमरी रोड़ पर सम्राट भवन के पास, सैक्टर 8 विज्डम प्राथमिक स्कूल के सामने, सैक्टर 8 विज्डम वल्र्ड स्कूल के पास अस्थाई बस स्टैंड में, महिला पुलिस स्टेशन के पास सर्किट हाउस के नजदीक, पिहोवा रोड़ केएस कान्वेंट स्कूल के पास तथा गांव मिर्जापुर में पिहोवा रोड़ की तरफ जाने वाली सडक़ शामिल है।
टेलीस्कोप से लाइव देख सकेंगे सूर्यग्रहण।
पैनोरमा एवं वीवीआई घाट लगाया जाएगा टेलीस्कोप।
कुरुक्षेत्र, 25 दिसम्बर सूर्य ग्रहण की रोमांचक खगोलीय घटना का नजारा पैनोरमा पर लाइव देखा जा सकेगा। यहां खगोलीय घटनाओं में रूचि रखने वालों को ग्रहण का नजारा दिखाने के लिए टेलीस्कोप लगाए जाएगा। सुबह आठ बजकर 18 मिनट 18 सेकेंड से ग्रहण की शुरुआत होगी। साल के इस अंतिम ग्रहण को दिखाने के लिए पैनोरमा विज्ञान केंद्र की ओर से 2 टेलीस्कोप लगाए जाएंगे। इनके जरिये आंशिक सूर्य ग्रहण का नजारा देखा जा सकेगा। पैनोरमा के शिक्षा अधिकारी जितेंद्र ने बताया कि सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर सुबह आठ बजकर 18 मिनट और 28 सेकेंड से सूर्यग्रहण कुरुक्षेत्र में दिखाई देगा। इसकी कुल अवधि दो घंटे 36 मिनट 38 सेकेंड रहेगी। यह सूर्यग्रहण पूरे भारत में दिखाई देगा, लेकिन इसकी कंकण आकृति केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक आदि दक्षिण भागों में दिखेगी शेष भारत में यह खंड ग्रास के रूप में दिखाई देगा। उन्होंने बताया कि ग्रहण प्रात: आठ बजकर 18 मिनट से शुरू होगा। नौ बजकर 36 मिनट पर आंशिक सूर्यग्रहण अपने चरम पर होगा। इस दौरान सूर्य का लगभग 44.11 प्रतिशत भाग चंद्रमा द्वारा ढक लिया जाएगा। सुबह 11 बजकर सात मिनट पर आंशिक सूर्यग्रहण समाप्त हो जाएगा।
पैनोरमा की ओर से आंशिक सूर्य ग्रहण की फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी भी की जाएगी। बताया कि सूर्यग्रहण एक छल्लेदार (वलयाकार) सूर्यग्रहण है जो कि  केरल एवं तमिलनाडु राज्यों में देखा जा सकेगा। इसके अतिरिक्त श्रीलंका के मन्नार एवं जाफना से सूर्य ग्रहण को देखा जा सकेगा। इसके अतिरिक्त संपूर्ण भारत से आंशिक सूर्य ग्रहण को ही देखा जा सकेगा। भारतवर्ष में आंशिक रूप से दिखाई देगा परंतु सऊदी अरब, ओमान, दक्षिण भारत, इंडोनेशिया के कुछ हिस्सों में छल्लेदार पूर्ण सूर्यग्रहण देखा जा सकेगा। इसके बाद अगला आंशिक सूर्यग्रहण 21 जून 2020 में दिखाई देगा।
संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक
94161-91877
कुरुक्षेत्र चलती कार में लगी भयानक आग, जिंदा जला असिस्टेंट बैंक मैनेजर।

कुरुक्षेत्र चलती कार में लगी भयानक आग, जिंदा जला असिस्टेंट बैंक मैनेजर।

कुरुक्षेत्र चलती कार में लगी भयानक आग, जिंदा जला असिस्टेंट बैंक मैनेजर।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र 24 दिसम्बर :-  कुरुक्षेत्र में आज मंगलवार प्रातः  एक कार में आग लग जाने की घटना सामने आई है। बैंक में असिस्टेंट मैनेजर बताया जा रहा यह युवक ग्रामीण क्षेत्र में काम के सिलसिले में घर से निकला था कि रास्ते में उसकी कार में अचानक आग लग गई और देखते-देखते जिंदा ही जल गया। लाडवा-पिपली सड़क पर आल्टो कार में आग लग जाने के कारण उसमें सवार व्यक्ति जिंदा जल गया। मृतक कार चालक की पहचान देवेंद्र कालड़ा के रूप में हुई है। वह असिस्टेंट बैंक मैनेजर के तौर पर तैनात था। पुलिस की तरफ से अधजले शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवा दिया गया है मामले की जांच पड़ताल का सिलसिला जारी है।
जानकारी के अनुसार लाडवा-इंद्री चौक के नजदीक स्थित सेंट्रल बैंक में असिस्टेंट मैनेजर देवेंद्र कालड़ा मंगलवार सुबह कार से जब कार्यालय जा रहे थे तो सुबह करीब साढ़े 9 बजे लाडवा-पीपली मार्ग पर गांव सौंटी के निकट अचानक उनकी आल्टो कार में भयंकर आग लग गई। इससे पहले कि वह कार से निकल पाते, आग की लपटों ने कार को पूरी तरह से अपनी चपेट में ले लिया। राहगीरों की सूचना पर फायर ब्रिगेड की गाड़ी भी मौके पर पहुंची और काफी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। मगर तब तक देवेंद्र कालड़ा की मौत हो चुकी थी। पुलिस ने वाहन को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरु कर दी है और पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया है। 
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )

94161-91877
शुकदेवाचार्य जी महाराज ने श्रीमद्भागवत कथा में सुनाया गोवर्धन पूजा का प्रसंग।

शुकदेवाचार्य जी महाराज ने श्रीमद्भागवत कथा में सुनाया गोवर्धन पूजा का प्रसंग।

शुकदेवाचार्य जी महाराज ने श्रीमद्भागवत कथा में सुनाया गोवर्धन पूजा का प्रसंग।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र, 24 दिसंबर :- दुख भंजन महादेव मंदिर परिसर में सूर्य ग्रहण के उपलक्ष्य में करवाई जा रही श्रीमद्भागवत कथा के पांचवें  दिन कथाव्यास शुकदेव आचार्य ने भगवान श्रीकृष्ण की बाल लीलाएं और गोवर्धन पूजा का प्रसंग विस्तार से सुनाया। कथा में श्रीमद्देवी भगवती बाला सुंदरी मंदिर शाहाबाद प्रबंधन कमेटी के प्रधान पवन गर्ग ने बतौर मुख्य यजमान भागवत पूजन किया।  प्रसंगों में शुकदेवाचार्य ने कहा कि कर्म परछाई की तरह मनुष्य के साथ रहते हैं, इसलिए श्रेष्ठ कर्मों की शीतल छाया में रहना चाहिए। श्रद्धा और विश्वास के रथ पर सवार रहोगें तो तुम्हारा मन रुपी घोड़ा नियंत्रण में रहेगा। प्रवचनों के दौरान गायक सीताराम कश्यप और मुरारी भार्गव द्वारा सुनाए गए भजनों पर श्रद्धालु झूम उठे। कथा में गिरिराज पर्वत की कृत्रिम आकृति बना कर छप्पन भोग लगाए गए। भागवत आरती में माँ बनभौरी शक्ति पीठ धाम के उपाध्यक्ष वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक, श्री शिव शक्ति सेवा मंडल के प्रधान एमके मौद्गिल, आचार्य विनोद मिश्र, कांति कौशिक, दीपक शर्मा, वीरभान शर्मा, सुरेंद्र गौतम, वीके शर्मा एडवोकेट, कंवरसेन वर्मा, प्रसिद्ध समाजसेवी अमित गर्ग लाडवा, बलजीत सिंह, ज्ञानचंद शर्मा, प्रेम मदान, देवेंद्र शर्मा, सीएल बजाज, जगन्नाथ शर्मा, नीतिन चन्द्रिका मिश्रा, कुसुम मिश्रा , दीपा शर्मा  व अनुराधा पाठक सहित अन्य शामिल रहे।
भागवत कथा की आरती में शामिल श्रद्धालु।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )
94161-91877
सूर्य ग्रहण पर कुरुक्षेत्र के तीर्थो पर स्नान करने से मिलता है हजारों अश्वमेघ यज्ञों के बराबर फल।

सूर्य ग्रहण पर कुरुक्षेत्र के तीर्थो पर स्नान करने से मिलता है हजारों अश्वमेघ यज्ञों के बराबर फल।

सूर्य ग्रहण पर कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर भगवान श्रीकृष्ण का हुआ था यशोदा मैय्या और राधा से आखिरी मिलन।

हरियाणा कुरुक्षेत्र 24 दिसम्बर :- दुनिया को कर्म का संदेश देने वाली कुरुक्षेत्र की भूमि मोक्षदायिनी भी है। सूर्यग्रहण पर स्नान करने से न केवल मोक्ष की प्राप्ति होती है बल्कि सभी पापों से भी मुक्ति मिलती है। सूर्य ग्रहण के बाद कुरुक्षेत्र में किए गए दान का विशेष महत्व माना गया है। यही नहीं इसी मोक्षदायिनी भूमि पर भगवान श्रीकृष्ण का यशोदा मैय्या व राधा से आखिरी बार मिलन हुआ था। अहम पहलु यह है कि शास्त्रों के अनुसार कुरुक्षेत्र के इस पावन सरोवर में प्रत्येक अमावस्या के दिन समस्त तीर्थ एकत्रित हो जाते है और सूर्य ग्रहण के अवसर पर इस तीर्थ के जल में स्नान हजारों अश्वमेघ यज्ञों के फल के बराबर माना जाता है। इस सरोवर पर मृतकों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध  की भी प्राचीन परम्परा रही है।
धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में 26 दिसम्बर को मूल नक्षत्र धनु राशि में सूर्य ग्रहण लगेगा। लिहाजा महाभारत की रणभूमि कर्म के साथ पापों से मुक्तिदायक भी है। माँ बनभौरी शक्ति पीठ धाम के उपाध्यक्ष वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक व गायत्री ज्योतिष के संचसलक पंडित रामराज कौशिक के अनुसार महाभारत की एक कथा के मुताबिक भगवान श्री कृष्ण के मथुरा छोडऩे के बाद अपने माता-पिता ( यशोदा और नंद बाबा ) व देवी राधा से आखिरी मुलाकात हुई थी। यही नहीं सभी गोपियों संग भगवान श्रीकृष्ण ने पवित्र ब्रह्मसरोवर में स्नान किया था। गोपियों से मिलने के बाद भगवान श्रीकृष्ण की कुंती व द्रौपदी सहित पांचों पांडवों से भेंट हुई।
सूर्यग्रहण का पुराणों में जिक्र है कि राहु द्वारा भगवान सूर्य के ग्रस्त होने पर सभी प्रकार का जल गंगा के समान, सभी ब्राह्मण ब्रह्मा के समान हो जाते हैं। इसके साथ ही इस दौरान दान की गई सभी वस्तुएं भी स्वर्ण के समान होती हैं।
सूर्य ग्रहण के अवसर पर कुरुक्षेत्र में स्नान के लिए सिख गुरु, धर्म गुरु व श्रद्धालु  भी यहां बराबर आते रहे। सिखों के प्रथम गुरु गुरनानक देव जी महाराज सन 1499 से 1509 के बीच किसी सूर्य ग्रहण के अवसर पर कुरुक्षेत्र आएं। उनके लिए शिक्षाओं के प्रचार-प्रसार के लिए यह एक बहुत बड़ा अवसर था, क्योंकि इस अवसर पर देश के विभिन्न भागों से यहां बड़ी संख्या में तीर्थ यात्री आए हुए थे। श्री गुरुनानक देव जी महाराज के आगमन की स्मृति में ब्रहमसरोवर के दक्षिणी पश्चिमी कोने में गुरुद्वारा पहली पातशाही बनाया गया है। श्री गुरुनानक देव जी महाराज के बाद सिखों के तीसरे गुरु अमरदास जी महाराज सन 1572 ईस्वी, नौंवे गुरु तेगबहादुर जी सन 1664-65 व दसवें गुरु श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज सूर्यग्रहण के अवसर पर कुरुक्षेत्र में आए।
मुगल सम्राट अकबर ने 1567 ईस्वी में सूर्य ग्रहण के अवसर पर कुरुक्षेत्र की यात्रा की, पुरी भिक्षु सम्प्रदाय के प्रमुख केशव पुरी ने सम्राट के समक्ष आपति की कि कुरुक्षेत्र सरोवर, जहां वे तीर्थ यात्रियों से भिक्षा ग्रहण करते है, उस सरोवर पर हमारे प्रतिद्वंदी पूर्व साधुओं ने अधिकारी कर लिया है। अत: दोनों के मध्य कलह अपरिहार्य हो गया है। निजामुदीन अहमद एवं अबुल फजल ने इस घटना को वर्णित किया है। तदानुसार प्रतिद्वंदियों के मध्य विवाद का कारण था, जल में लोगों द्वारा डाले गए स्वर्ण, चांदी, आभूषण तथा अन्य मुल्यवान वस्तुओं पर एवं ब्राहमणों को दिए गए उपहारों पर अधिकार स्थापित करना। विवाद के समाधान हेतू स्वयं अकबर घटना स्थल पर गए।
कुरुक्षेत्र की पावन भूमि के दर्शनों हेतू अनादि काल से ही अनेक श्रद्धालु  एवं तीर्थ यात्री निरंतर आते रहे है। ऐतिहासिक काल में यहां ह्वेन त्सांग यहां 7 वीं शताब्दी, अल-बेरुनी 11वीं शताब्दी, फ्रांसिस बर्नियर 17वीं शताब्दी जैसे विदेशी यात्रियों ने कुरुक्षेत्र का भ्रमण कर अपनी यात्रा संस्मरणों में इस भूमि की धार्मिक, ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक महता का उल्लेख किया है।

भगवान श्री कृष्ण ने भी इस सरोवर में किया स्नान।
सूर्यग्रहण पर भारत के कई प्रदेशों अंग, मगद, वत्स, पांचाल, काशी, कौशल के कई राजा-महाराजा बड़ी संख्या में स्नान करने कुरुक्षेत्र आए थे। द्वारका के दुर्ग को अनिरुद्ध व कृतवर्मा को सौंपकर भगवान श्रीकृष्ण, अक्रूर,  वासुदेव,  उग्रसेन, गद,  प्रद्युम्न, सामव आदि यदुवंशी व उनकी स्त्रियां भी कुरुक्षेत्र स्नान के लिए आई थीं।

2 घंटे 36 मिनट रहेगा सूर्य ग्रहण का प्रभाव।
पण्डित  ऋषभ वत्स का कहना है कि इस साल का आखिरी सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर को लग रहा है। सूर्य ग्रहण हमेशा अमावस्या के दिन लगता है। हिंदू पंचांग की मानें तो पौष माह की कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि को पौष अमावस्या कहते हैं। कहा जाता है कि इस दिन पितृदोष शांति और पिछले जन्म के पापों के अशुभ प्रभावों से मुक्ति के लिए उपाय किए जाते हैं, लेकिन सूर्य ग्रहण लगने से अमावस्या के ये उपाय सूतक लगने से पहले ही कर लिए जाएंगे। सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर सुबह आठ बजकर 18 मिनट और 28 सेकेंड से सूर्यग्रहण कुरुक्षेत्र में दिखाई देगा। इसकी कुल अवधि दो घंटे 36 मिनट 38 सेकेंड रहेगी। यह सूर्यग्रहण पूरे भारत में दिखाई देगा, लेकिन इसकी कंकण आकृति केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक आदि दक्षिण भागों में दिखेगी शेष भारत में यह खंड ग्रास के रूप में दिखाई देगा।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )
94161-91877
प्रेरणा वृद्धाश्रम में भारतीय संस्कृति और प्रेम के लिए विदेश से आये परिवार के साथ बुजुर्गों का सहभोज।

प्रेरणा वृद्धाश्रम में भारतीय संस्कृति और प्रेम के लिए विदेश से आये परिवार के साथ बुजुर्गों का सहभोज।

प्रेरणा वृद्धाश्रम के पुराने सदस्यों तथा उनके बच्चों द्वारा सिंगापुर से आकर किया गया वृद्धों के साथ सहभोज।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र 24 दिसम्बर :- विदेश में रह रहे अपने बच्चों को भारतीय संस्कृति और भाईचारे के प्रति प्रेरित करने के उद्देश्य से अभिभावकों द्वारा कुरुक्षेत्र के विख्यात प्रेरणा वृद्धाश्रम में बुजुर्गों के साथ सहभोज का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में सहभोज कार्यक्रम के आयोजकों के सिंगापुर से आये बच्चों के साथ बुजुर्गों ने भी काफी उत्साह दिखाया और भोजन करते हुए विचार साँझा किये। प्रेरणा संस्था एवं वृद्धाश्रम के संस्थापक जयभगवान सिंगला ने बताया कि उनकी संस्था के पुराने सदस्यों डा. एस सी गुप्ता, अनीता गुप्ता तथा प्रो. ब्रजेश कटहिल द्वारा अपने बच्चों को भारतीय संस्कृति से अवगत करवाने तथा पाश्चात्य सभ्यता से हटकर आपसी भाईचारे को दर्शाने के लिए इस सहभोज कार्यक्रम का आयोजन किया गया। डा. एस सी गुप्ता ने कहाकि संस्था द्वारा बुजुर्गों के प्रति बहुत ही सराहनीय प्रयास किया जा रहा है, जिन बुजुगों को उनके घरों में प्यार और सम्मान नहीं मिलता है। उन्हें यहां बहुत ही प्रेम के साथ घर जैसे वातावरण में रखा जाता है।प्रो. ब्रजेश कटहिल ने भी प्रेरणा संस्था के प्रयासों की सराहना करते हुए बताया कि जब भी वे यहां आते हैं। यहां से आत्मीयता, प्रेम व सम्मान की यादें लेकर जाते हैं। उन्होंने भी संस्था के कार्यों तथा प्रयासों की सराहना की। युवा छाया गौतम ने भी अपनी माता मीरा गौतम के साथ आकर कहाकि प्रेरणा द्वारा समाज के प्रति बहुत ही सराहनीय कार्य किया जा रहा है। यहां बुजुर्गों को जहां आश्रय दिया जा रहा है, वहीं गरीब परिवारों के बच्चों को शिक्षा भी दी जा रही है। एडवोकेट पृथ्वीनाथ गौतम ने बताया कि संस्था द्वारा बुजुर्गों को भोजन, कपड़े व आश्रय के साथ साथ उनके स्वास्थ्य का भली प्रकार से ध्यान रख रही है। उन्होंने बताया संस्था बच्चों को शिक्षा के साथ अन्य समाजसेवा के कार्य जैसे बाढ़ पीड़ितों को सहायता के इलावा गीता जयंती व सूर्यग्रहण के अवसर पर सहयोग के कार्य भी कर रही है। डा. रमा महना ने भी कहाकि आज समाज में ऐसी संस्थाओं की जरूरत है। प्रेरणा संस्था भविष्य में और अधिक विकास करे। इस मौके पर प्रेरणा की अध्यक्षा रेणु खुंगर ने आये हुए अतिथियों का आभार व्यक्त किया।
प्रेरणा वृद्धाश्रम में सहभोज के उपरांत आये हुए अतिथियों के साथ बुजुर्ग लोग एवं आयोजक परिवार।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )
94161-91877
नयू पेंशन स्कीम में हर कर्मचारी का वर्तमान व भविष्य अंधकारमय ,आमजन भी करे विरोध: नरेश फुले।

नयू पेंशन स्कीम में हर कर्मचारी का वर्तमान व भविष्य अंधकारमय ,आमजन भी करे विरोध: नरेश फुले।

नयू पेंशन स्कीम में हर कर्मचारी का वर्तमान व भविष्य अंधकारमय ,आमजन भी करे विरोध: नरेश फुले।

हरियाणा कुरुक्षेत्र :- पेंशन बहाली संघर्ष समिति कुरुक्षेत्र की टीम जिला उपाध्यक्ष रविदत्त की अध्यक्षता में शाहबाद पहुंची। जिला प्रधान नरेश फूले ने सेमिनार में एनपीएस कर्मचारियों को  पुरानी पेंशन बहाली के लिए संबोधित किया। सभी कर्मचारियों ने न्यू पेंशन स्कीम के विरोध में घोषणा पत्र भरे व  पुरानी पेंशन बहाली संघर्ष समिति की मुहिम का पूर्ण समर्थन व सहयोग करने की शपथ ली। राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ, खंड  शाहबाद प्रधान जय सिंह हुड्डा जी ने एनपीएस कर्मचारियों को एकजुट हो संघर्ष करने का आह्वान किया । शाहाबाद प्रधान गंगाधर व जसबीर  ने भी मंच पर बोलते हुए पुरानी पेंशन बहाली संघर्ष समिति कुरुक्षेत्र  की टीम का समर्थन किया व जोरदार स्वागत किया।साथ ही टीम राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय ठोल,  राजकीय माध्यमिक विद्यालय तंगोर , राजकीय माध्यमिक विद्यालय शांतिनगर में पहुंची। जहां समस्त स्टाफ सदस्यों ने टीम का स्वागत किया। इस मौके पर सतवीर गोयत, प्रवीण,अली शेर, सुदेश कुमारी ,नीतू ,गगनजोत कौर, विनोद बजाज, बड़ीक सिंह, राजन, बलवीर ,विकास ,अनिल, रामकुमार , रिंकू ,योगेंद्र, रामा ,राजू ,वीरेंद्र जटिया, राकेश अमीन ,बलकार सिंह ,अंकुशआदि सैंकड़ों कर्मचारी मौजूद रहे
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )

94161-91877

लिटल कैंपस इंटरनेशनल स्कूल के वार्षिकोत्सव समारोह धूमधाम से संपन्न।

लिटल कैंपस इंटरनेशनल स्कूल के वार्षिकोत्सव समारोह धूमधाम से संपन्न।


शिक्षक की जिम्मेदारी है कि वह हर बच्चे को इस तरह से शिक्षित करे कि उसके अंदर छिपी प्रतिभा निखर कर सामने आए: डॉ. गीता गोयल।

चंचल को मिला स्व. मेहर चंद मेहंदीरत्ता मैमोरियल अवार्ड।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र, 24 दिसम्बर :- प्रत्येक बच्चे के अंदर प्रतिभा छिपी होती है, बस उस प्रतिभा को सही मंच मिलने की जरूरत होती है। शिक्षक की जिम्मेदारी है कि वह बच्चे को इस तरह से शिक्षित करे कि उसके अंदर छिपी प्रतिभा निखर कर सामने आए। यह उद्गार लिटल कैंपस इंटरनेशनल स्कूल के वार्षिकोत्सव समारोह के दौरान प्रसिद्ध महिला चकित्सक डॉ.गीता गोयल ने बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि बच्चे का भविष्य शिक्षक के हाथ में होता है। गीता गोयल ने कहा कि  मंच पर आकर भाषण देना, डांस करना या किसी भी तरह की प्रस्तुति देना आसान नहीं है। स्टेज पर आने से पहले बड़े बड़ों के पसीने छूटते हैं। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में पधारे प्रसिद्ध उद्योगपति विजयंत बिंदल ने कहा कि बच्चा कच्ची मिट्टी के समान होता है। जिसे हर दिन  शिक्षक पकाता है और एक दिन शिक्षक की मेहनत रंग लाती है। बिंदल ने कहा कि बच्चा एक बार अपने मां बाप की बात को झुठला सकता है, लेकिन अपने शिक्षक की कही बात नहीं झुठला सकता। अपना अस्पताल के संचालक कुरुक्षेत्र के जाने माने सर्जन डॉ अजय गोयल जो कि किसी परिचय के  मोहताज नहीं है, ने कहा कि बहुत ही कम समय में लिटल कैंपस इंटरनेशनल स्कूल ने अपने स्कूल के बच्चों को इस काबिल बना दिया है कि वह स्टेज पर आने से ना झिझकते हैं, ना ही उनके मन में कोई डर है। उन्होंने कहा कि मिट्टी में ही होती है पकड़ मजबूत पैरों की,मैंने संगमरमर पे चलते लोगों को फिसलते देखा है।  वहीं कार्यक्रम में विशेष रूप में विपिन शर्मा, मीडिया जगत से चंद्र शर्मा, राजकुमार वालिया , सुनील वधवा मौजूद रहे। वहीं साधु समाज ने भी अपना आशीर्वाद बच्चों को दिया। षड्दर्शन साधू समाज हरियाणा की तरफ से बच्चों को विशेष रूप से आशीर्वाद देने के  लिए वैद्य पण्डित  प्रमोद कौशिक मौजूद थे। कार्यक्रम को सफल बनाने में विशेष रूप से स्कूल की 
इससे पूर्व कार्यक्रम की शुरूआत मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलन के साथ हुई। स्कूल के बच्चों ने सरस्वती वंदना व स्वागत गीत गाकर कार्यक्रम की औपचारिक शुरुआत की। बच्चों ने आज के इस कार्यक्रम में कुल 10 प्रस्तुतियां दी, जिसमें गणेश वंदना, सरस्वती वंदना,हरियाणवी डांस,पंजाबी डांस , यह तो सच है की भगवन है, रब ने बना दी जोड़ी , आई ए एम सो हप्पी , ऐ वतन व प्लास्टिक का इस्तमाल न करे आदि कार्यक्रमों पर छोटे छोटे बच्चों ने अपनी शानदार प्रस्तुति देकर लोगों को झूमने पर मजबूर कर दिया। नन्हें बच्चों ने अपनी मनमोहक सुरीली आवाज में कई गानों की बेहतरीन प्रस्तुति की। इसके साथ ही कार्यक्रम में गायन, नृत्य,  फैंसी ड्रेस समेत कई अन्य प्रस्तुतियों ने समारोह को आकर्षक बना दिया। दर्शकों ने भी बच्चों का जमकर उत्साह बढ़ाया।
कार्यक्रम में एंकरिंग डंटिस्ट डा. केशव व नीजू ने की और कार्यक्रम में उपस्थित बच्चों के अभिभावकों के लिए भी कार्यक्रम रंगीन बनाने के लिए अभिभावकों के लिए म्यूजिकल चेयर , पासिंग पिल्लो व  अन्य गेम भी करवाए गए। लिटल कैंपस इंटरनेशनल स्कूल की संचालिका लता अरोड़ा ने बताया कि सारे साल की गतिविधियां देख कर बच्चों को पुरस्कृत किया, वहीं स्कूल के टीचिंग व नॉन टीचिंग स्टाफ को भी पुरस्कृत किया। स्कूल ने पायलट आफ इयर का अवार्ड प्रदीप को दिया, जो कि बेस्ट ड्राइवर को दिया जाता है। वहीं बेस्ट टीचर का अवार्ड मीनू व भास्कर को दिया गया।
स्कूल के प्रबंध निदेशक राजीव अरोड़ा ने स्कूल के चोथी कक्षा के विद्यार्थी चंचल को स्व. मेहर चंद मेहंदीरत्ता मैमोरियल अवार्ड दिया इस वर्ष स्कूल के बेस्ट स्टूडेंट आफ द इयर के रूप में चंचल को दिया गया। राजीव अरोड़ा ने बताया कि वे हर वर्ष अपने पिता जी की याद में ये मैमोरियल अवार्ड स्कूल के बेस्ट स्टूडेंट को देंगे।
स्कूल के बच्चों को पुरस्कार वितरण समारोह में बेबी, कीर्ति,  स्कूल की संरक्षक संतोष रानी,  प्रबंध महानिदेशक राजीव अरोड़ा, निदेशक राजेंद्र अरोड़ा, स्कूल की संचालिका लता अरोड़ा, जिज्ञासा अरोड़ा, टीचर सोनिया, ममता, ऋतू,गुरमीत,अनीता आदि  मौजूद रही। कार्यक्रम के अंत में अतिथियों को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया।
 वार्षिकोत्सव कार्यकर्म में प्रस्तुति देते बच्चे , बच्चो को पुरस्कार देते हुए मुख्यअतिथि व स्कूल प्रबंधक । 
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )
94161-91877
कुरुक्षेत्र जेजेपी के सदस्यता अभियान ने पकड़ी तेजी।

कुरुक्षेत्र जेजेपी के सदस्यता अभियान ने पकड़ी तेजी।


कुरुक्षेत्र में मॉनिटरिंग कमेटी ने किया निरीक्षण।
कमेटी के सदस्यों ने दिए जरूरी दिशा-निर्देश।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र, 24 दिसम्बर :-  प्रदेशभर में 20 दिसम्बर से शुरू हुआ जननायक जनता पार्टी का सदस्यता अभियान कुरुक्षेत्र में जोरों शोरों से चल रहा है। इस सदस्यता अभियान के जरिए अब तक हजारों नए सदस्य जेजेपी के साथ जुड़ चुके है। सदस्यता अभियान को लेकर जहां एक तरफ जिला स्तर पर पार्टी पदाधिकारी घर-घर जाकर लोगों को जेजेपी की नीतियों से अवगत करवाकर उन्हें पार्टी की सदस्यता ग्रहण करवा रहे है तो वहीं पार्टी आलाकमान द्वारा इस अभियान के लिए बनाई गई निगरानी समिति भी अब फील्ड में उतर गई है। मंगलवार को मॉनिटरिंग कमेटी के सदस्य, पार्टी के राष्ट्रीय सचिव उमेद कश्यप, प्रदेश उपाध्यक्ष रमेश खटक, प्रदेश कार्यालय सचिव रणधीर सिंह और युवा प्रदेशाध्यक्ष रविंद्र सांगवान ने कुरुक्षेत्र जिले में निरीक्षण कर सदस्यता अभियान का जायजा लिया। इस दौरान कमेटी के सदस्यों ने जिला स्तरीय पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ बैठक की।
निरीक्षण के दौरान मॉनिटरिंग कमेटी के सदस्यों ने बताया कि प्रदेशभर में 20 जनवरी तक चलने वाले पार्टी के सदस्यता अभियान को लेकर पार्टी पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओं और पार्टी से जुड़ने वाले नए सदस्यों में काफि उत्साह है जिसके परिणामस्वरूप सदस्यता अभियान के पहले तीन दिनों में ही हजारों नए सदस्य जेजेपी के साथ जुड़ गए है।
हरियाणा संपादक - पवन रोड
9729168750
केसरी देवी लोहिया जयराम पब्लिक स्कूल में सजाया गया सुन्दर क्रिसमस ट्री।

केसरी देवी लोहिया जयराम पब्लिक स्कूल में सजाया गया सुन्दर क्रिसमस ट्री।

केसरी देवी स्कूल में धूमधाम से मनाया गया क्रिसमस डे।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र 24 दिसम्बर : - भारत साधु समाज के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं जयराम संस्थाओं के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी की प्रेरणा से श्री मती केसरी देवी लोहिया जयराम पब्लिक स्कूल लौहार माजरा में सर्वप्रेम की भावना से क्रिसमस डे की पूर्व संध्या पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर स्कूल के विद्यार्थियों ने जहां बहुत ही सुन्दर क्रिसमस ट्री सजाया, वहीं अनेक रंगारंग कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां दी। सर्वप्रथम स्कूल की छात्रा पल्लवी ने सभी विद्यार्थियों को अपने सुन्दर वक्तव्य के माध्यम से क्रिसमस डे के आयोजन के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। इस के अतिरिक्त विद्यार्थियों द्वारा समूहनृत्य, समूहगान व गीत प्रस्तुत कर यशुमसीह को याद किया गया। इस मौके पर क्रिसमस डे कार्यक्रम में बीच बीच में अनेक मनोरंजक गेम भी रखे गए, जिनमें विद्यार्थियों ने उत्साह के साथ भाग लिया। जयराम शिक्षण संस्थान के निदेशक एस एन गुप्ता तथा प्राचार्या अंजू अग्रवाल ने विद्यार्थियों तथा शिक्षक वर्ग कोक्रिसमस डे की शुभकामनायें दी। विद्यार्थियों को प्राचार्या ने बताया कि भारत धर्मनिरपेक्ष देश है। यहां सभी धर्मों के त्यौहारों को श्रद्धा और प्रेम के साथ मनाया जाता है। यही त्यौहार हमें एकता के सूत्र में बांधते हैं। हम सभी को महापुरुषों द्वारा बताये गए मार्ग का अनुसरण करना चाहिए। इस अवसर पर कविता, ममता, बबिता, मोनिका मेहता व मनीषा सहित अन्य अध्यापिकाएं भी मौजूद थी।
 क्रिसमस डे के अवसर पर केसरी देवी स्कूल के विद्यार्थी आपसी भाईचारे तथा प्रेम की शपथ लेते हुए, क्रिसमस डे के अवसर पर सांता क्लाज के वेशभूषा में नन्हे विद्यार्थी एवं साथ खड़े शिक्षक।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )

94161-91877
कुरुक्षेत्र सूर्य ग्रहण मेले के चप्पे-चप्पे पर श्रद्धालुओं के लिए होंगे सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम : फुलिया।

कुरुक्षेत्र सूर्य ग्रहण मेले के चप्पे-चप्पे पर श्रद्धालुओं के लिए होंगे सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम : फुलिया।


उपायुक्त डा. एसएस फुलिया सहित सभी अधिकारियों ने तैयारियों का लिया जायजा।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र 24 दिसम्बर :- उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर 26 दिसंबर को सुबह 8 बजकर 15 मिनट से लेकर 10 बजकर 55 मिनट तक सूर्य ग्रहण मेले का आयोजन किया जाएगा। इस मेले में दूर-दराज से आने वाले लगभग 15 लाख श्रद्धालुओं  के पहुंचने की संभावना है, इसलिए मेले के चप्पे-चप्पे पर श्रद्धालुओं  के लिए सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किए जाएंगे। अहम पहलु यह है कि देश के कोने-कोने से आने वाले महान संत साधु समाज के लोगों के साही स्नान की व्यवस्था अर्जुन घाट पर की गई है। इतना ही नहीं साही स्नान के साथ-साथ ब्रह्मसरोवर के आस-पास की सुरक्षा व्यवस्था के लिए 4 आईएएस अधिकारी, 13 एचसीएस अधिकारी, 6 से ज्यादा आईपीएस अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। इतना ही नहीं सूर्य ग्रहण मेले के क्षण-क्षण की जानकारी, ट्रेनों और बसों की समय सारणी के साथ-साथ प्रत्येक सेक्टर मैजिस्ट्रेट और आपातकालीन मोबाइल नम्बर की जानकारी प्रशासन की वैबसाईट कुरुक्षेत्रडाटजीओवीडाटइन पर भी ली जा सकती है।
वे मंगलवार को कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड मीडिया सैंटर में सूर्य ग्रहण मेले की तैयारियों को लेकर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इसके उपरांत उपायुक्त डा. एसएस फुलिया, पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी, एडीसी पार्थ गुप्ता, एसडीएम अश्वनी मलिक, एसडीएम अनिल यादव, सीईओ केडीबी गगनदीप सिंह सहित अन्य अधिकारियों ने मेला क्षेत्र के तमाम साईटस का निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा लिया और कमियों को दूर करने के आदेश भी दिए है। उपायुक्त ने कहा कि प्रशासन सूर्य ग्रहण मेले को सफल और यादगार बनाने के लिए एक मास्टर प्लान तैयार किया है, इस मास्टर प्लान के अनुसार, डयूटी मैजिस्ट्रेट और सेक्टर अधिकारी तथा अन्य अधिकारियों की डयूटियां लगाई गई है। प्रशासन की तरफ से श्रद्धालुओं  के लिए बिजली, पीने के पानी, शौचालयों की व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था के साथ-साथ अन्य प्रकार के इंतजाम कर दिए गए है। इस मेले में समाजसेवी संस्थाओं द्वार भंडारों का आयोजन शुरू कर दिया गया है। प्रशासन की तरफ से भंडारों के लिए अलग जगह मुहैया करवाई गई है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय  गीता महोत्सव में प्रशासन का सहयोग देने पर मीडिया का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि मीडिया के सहयोग से इस मेले को भी सफल और यादगार बनाया जाएगा।
पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले में भीड़ पर नियंत्रण रखने और सुरक्षा मुहैया करवाने के साथ-साथ कानून व्यवस्था बनाए रखने पर पुलिस का फोकस रहेगा। इसलिए मेला क्षेत्र को 20 सैक्टरों में बांटा गया है। इसके अलावा पिहोवा, ज्योतिसर में भी पुलिस फोर्स की नियुक्ति की गई है। इस मेले में तकरीबन 5 हजार पुलिस कर्मचारियों की डयूटी लगाई गई है। उन्होंने कहा कि आपातकालीन स्थिति को जहन में रखते हुए ब्रहमसरोवर के चारों तरफ एक लेन को खाली रखा जाएगा, इसी तरह सैक्टर 2 केडीबी रोड़ से लेकर ब्रहमसरोवर तक भी एक लेन को आपातकालीन स्थिति को जहन में रखते हुए खाली रखा गया है।
अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले को लेकर छोटे से छोटे पहलू को जहन में रखकर तैयारी की गई है। इस मेले में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए मेडिकल, पीने के पानी, शौचालयों, स्वागत कक्ष, बचाव टीमे, श्रृद्घालुओं के ठहरने की व्यवस्था, बीमा की व्यवस्था, महिलाओं के लिए ब्रहमसरोवर पर चैंज करने के लिए अलग से व्यवस्था की गई है। केडीबी के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले में श्रद्धालुओं  के लिए पहले बार वाटर और फायर प्रूफ टेटेंज की व्यवस्था की गई है। साधुओं की गरिमा को ध्यान में रखते हुए स्नान की व्यवस्था की है। सन्निहित सरोवर पर भी हर प्रकार की व्यवस्था की जा रही है। इतना ही नहीं इस मेले में जो कमियां रह जाएगी, उन कमियों को 21 जून 2020 को लगने वाले पूर्ण ग्रहण मेले में दूर कर दी जाएंगी।
केडीबी के सीईओ एवं सूचना, जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग के संयुक्त निदेशक गगनदीप सिंह ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले पर 50 लाख की लागत से आटोमैटिक सफाई करने की मशीने पहुंच गई है। इन मशीनों से निरंतर सफाई की जाएगी और कुछ समय बाद 50 लाख की लागत से सफाई मशीनों की ओर व्यवस्था की जाएगी। केडीबी के मेडिटेशन सेंटर में 500 लोगों के ठहरने की व्यवस्था के प्रबंध किए है। उन्होंने कहा कि सभी स्वागत कक्षों पर दिव्यांगों के लिए 50 व्हील चेयर की व्यवस्था की गई है। इस मौके पर एसडीएम अश्वनी मलिक, एसडीएम अनिल यादव, डीएसपी अजय राणा, डीएसपी भारत भूषण, डीआरओ डा. चांदी राम चौधरी, डीडीपीओ रेनू जैन सहित जिला के सभी अधिकारी मौजूद थे।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )
देव मानव सेवा ट्रस्ट प्रचंड सर्दी में हर शनिवार को गरीब जरूरतमंद व्यक्तियों को वितरित करता हे गर्म वस्त्र।

देव मानव सेवा ट्रस्ट प्रचंड सर्दी में हर शनिवार को गरीब जरूरतमंद व्यक्तियों को वितरित करता हे गर्म वस्त्र।

देव मानव सेवा ट्रस्ट की चेयरपर्सन अम्बिका शर्मा के सानिध्य में देश भर में सर्दी के मौसम में जरूरतमंदों को किये जाते है गर्म वस्त्र वितरित।
हरियाणा बल्लबगढ़ 21 दिसम्बर :- आज शनिवार को बल्लबगढ़ स्थित शनि धाम  मंदिर परिसर में  देव मानव सेवा ट्रस्ट द्वारा जरूरतमंदों को वस्त्र वितरण किया गया। बढ़ती ठंड से गरीब और असहाय महिला पुरुष और बच्चे परेशान हो चुके, उनकी इसी परेशानी को देखते हुए हर शनिवार को जरूरतमंदों में गर्म कपड़े बांटे जाते हैं। देव मानव सेवा ट्रस्ट द्वारा ये छोटी छोटी मदद इन लोगो के चेहरे पर मुस्कान लाती है। अम्बिका शर्मा ने बताया कि नर की सेवा से ही नारायण की सेवा होती है और सेवा भाव से ही मनुष्य योनि में जन्म लेना सार्थक होता है।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )
94161-91877
सूर्य ग्रहण मेले को लेकर जिला कुरुक्षेत्र में 26 दिसम्बर को सभी स्कूलों में रहेगा अवकाश।

सूर्य ग्रहण मेले को लेकर जिला कुरुक्षेत्र में 26 दिसम्बर को सभी स्कूलों में रहेगा अवकाश।

सूर्य ग्रहण मेले को लेकर जिला कुरुक्षेत्र में 26 दिसम्बर को सभी स्कूलों में रहेगा अवकाश
हरियाणा  कुरुक्षेत्र 21 दिसम्बर:- उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर 26 दिसम्बर को सूर्य ग्रहण मेले का आयोजन ब्रहमसरोवर, सन्निहित सरोवर व गीता संदेश स्थली ज्योतिसर में किया जा रहा है। इस मेले में देश विदेश से लगभग 15 लाख पर्यटकों के पहुंचने की सम्भावना है। इस दौरान सुरक्षा प्रबंधों व कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए 26 दिसम्बर 2019 को जिला कुरुक्षेत्र के सरकारी व मान्यता प्राप्त स्कूलों में अवकाश घोषित करने के आदेश जारी किए है। इसलिए सभी स्कूल 26 दिसम्बर को अपने स्कूलों को बंद रखेंगे, कोई भी स्कूल इन आदेशों की अवहेलना नहीं करेगा।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )
94161-91877
जयराम संस्कृत महाविद्यालय से स्नातक जितेन्द्र शास्त्री बने एचसीएस अधिकारी।

जयराम संस्कृत महाविद्यालय से स्नातक जितेन्द्र शास्त्री बने एचसीएस अधिकारी।

जयराम संस्थाओं के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप
 ब्रह्मचारी ने दी शुभकामनाएं।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र 21 दिसम्बर : - भारत साधु समाज के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं जयराम संस्थाओं के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी के मार्गदर्शन में ब्रह्मसरोवर के तट पर श्री जयराम विद्यापीठ में संचालित जयराम संस्कृत महाविद्यालय में 5 वर्ष तक शिक्षा ग्रहण कर स्नातक बने जितेन्द्र शास्त्री का हरियाणा प्रशासनिक सेवाओं ( एचसीएस ) में चयन हुआ है। जितेन्द्र शास्त्री के एचसीएस अधिकारी बनने पर संस्कृत महाविद्यालय के शिक्षक वर्ग में काफी प्रसन्नता का माहौल है। परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी ने जितेन्द्र शास्त्री के एचसीएस अधिकारी बनने पर शुभाशीर्वाद देते हुए बधाई दी है। उन्होंने कहाकि यह गर्व का विषय है कि एक संस्कृत का विद्यार्थी प्रशासनिक सेवाओं में पहुंचा है। यह भारतीय संस्कृति और संस्कारों का भी गर्व है। महाविद्यालय के प्राचार्य प. रणबीर भारद्वाज ने बताया कि जितेन्द्र शास्त्री हिसार जिला के गांव उगालन के बहुत ही सामान्य परिवार से संबंध रखते हैं। उन्होंने बहुत ही सभ्य, शांत एवं सुशील रहते हुए जयराम संस्कृत महाविद्यालय में 5 वर्ष तक अध्ययन करते हुए 2006 में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से द्वितीय श्रेणी से शास्त्री की उपाधि हासिल की। भारद्वाज ने बताया कि जितेन्द्र ने अपने अध्ययन काल में सभी कक्षाओं में सर्वाधिक अंक प्राप्त किये तथा व्याकरण के विषय में सबसे अधिक जिज्ञासु विद्यार्थी रहे। प्राचार्य ने बताया कि वह अपनी कक्षा के इलावा महाविद्यालय में अतिरिक्त समय में भी आकर मुझसे व्याकरण के जटिल प्रश्नों के साथ चर्चा करते रहते थे। उन्होंने बताया कि परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरुप ब्रह्मचारी ने भी ऐसे प्रतिभाशाली विद्यार्थी को विशेष सहयोग देने के निर्देश दिए, उसी का प्रतिफल है कि जितेन्द्र शास्त्री ने गौरवमयी पद पर अलंकृत होकर जयराम विद्यापीठ तथा जयराम शिक्षण संस्थाओं का नाम रोशन किया है। इस अवसर पर षड्दर्शन साधु समाज हरियाणा के संरक्षक महन्त बंशी पुरी जी महाराज, अध्यक्ष परमहंस ज्ञानेश्वर जी महाराज ,संगठन सचिव वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ने भी जितेन्द्र शास्त्री को बधाई शुभकामनाएं दी। इस मौके पर जयराम संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य रणबीर भारद्वाज सहित   रोहित कौशिक, आचार्य राजेश प्रसाद लेखवार, प्रवीण शर्मा, रामजुहारी, पुरुषोत्तम, रामपाल, दीपक शर्मा इत्यादि शिक्षकों ने शुभकामनायें देते हुए उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।
जयराम संस्कृत महाविद्यालय से स्नातक एचसीएस अधिकारी बने जितेन्द्र शास्त्री।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )

94161-91877
शिक्षा में संस्कारों की अत्यंत आवश्यकता : अरुण आश्री।

शिक्षा में संस्कारों की अत्यंत आवश्यकता : अरुण आश्री।



विद्या भारती और सी.सी.आर.टी. शिक्षा और संस्कृति के कार्य में अग्रसर: डॉ. राहुल कुमार।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र, 21 दिसम्बर:-  विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान एवं सांस्कृतिक स्रोत एवं प्रशिक्षण केन्द्र (सी.सी.आर.टी.) नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में ‘प्राकृतिक एवं सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण में स्कूलों की भूमिका’ विषय पर 11 दिवसीय शिक्षण-प्रशिक्षण कार्यशाला का आज समापन हुआ। इस अवसर पर मुख्य अतिथि जिला शिक्षा अधिकारी अरुण आश्री थे। मंचासीन सी.सी.आर.टी. की एग्जीक्यूटिव कमेटी के सदस्य एवं विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान के निदेशक डॉ. रामेन्द्र सिंह, सी.सी.आर.टी. के उप निदेशक डॉ. राहुल कुमार एवं सी.सी.आर.टी. से देवनारायण रजक उपस्थित रहे। कार्यशाला में अरुणाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, कर्नाटक, महाराष्ट्र से 32 शिक्षकों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।
शिक्षकों को संबोधित करते हुए मुख्यातिथि अरुण आश्री ने कहा कि व्यवस्था और अनुशासनप्रियता हमारी संस्कृति में शामिल है। कुरुक्षेत्र की भूमि आध्यात्मिक केन्द्र नहीं बल्कि सांस्कृतिक केन्द्र बनने जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज शिक्षकों पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। शिक्षा में संस्कारों की अत्यंत आवश्यकता है। एक बालक बचपन से ही संस्कार सीखता है। यदि उसे संस्कारयुक्त शिक्षा प्रदान की जाती है तो वह आगे चलकर देश का अच्छा नागरिक बनता है। ऐसी शिक्षा विद्या भारती के स्कूलों में दी जा रही है। उन्होंने सी.सी.आर.टी. के कार्यों के बारे में कहा कि शिक्षण-प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर यह संस्था अनूठा कार्य कर रही है। पांच राज्यों के शिक्षक यहां से बहुत कुछ सीखकर जा रहे हैं। इसी तरह के प्रशिक्षण कार्यक्रम आगे भी जारी रखने चाहिए। उन्होंने विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान के कार्यों की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि इस संस्थान के साथ जुड़कर मुश्किल कार्य भी आसान प्रतीत होता है।
डॉ. रामेन्द्र सिंह ने सभी अतिथियों का परिचय कराते हुए कहा कि किसी भी कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए व्यवस्था बहुत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि बुद्धि का विवेकयुक्त होना और सम्यक् दिशा में ठीक जीवन दृष्टि की ओर चलना, उसके लिए संस्कारों की अत्यंत आवश्यकता है। ये संस्कार जीवनमूल्य युक्त व्यवहार से ही आते हैं। जब जीवन मूल्यों पर आधारित जीवन जीते हैं तो उसमें से संस्कार उत्पन्न होते हैं। जब ये जीवन मूल्य और संस्कार मिलकर आगे चलते हैं तो उसमें से जीवन की दृष्टि विकसित होती है। यह जीवन दृष्टि इस देश के बोध के लिए आवश्यक है, इस समाज के लिए आवश्यक है। यहां की सांस्कृतिक विरासत और संस्कृति की जानकारी के लिए आवश्यक है। उसी में से संस्कृति का चरमानंद प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि संस्कृति की अत्यंत विशेषता अध्यात्म है। भारत की सांस्कृतिक विशेषता का सर्वोच्च शिखर अध्यात्म है। इसी उद्देश्य को लेकर यह कार्यशाला और इससे पहले भी सी.सी.आर.टी द्वारा कार्यशालाएं आयोजित की गई हैं। जब कोई चीज लम्बे समय तक चलती है तो वह परम्परा बन जाती है।
सी.सी.आर.टी. के उप निदेशक डॉ. राहुल कुमार ने कहा कि विद्या भारती और सी.सी.आर.टी. के कार्य एक जैसे ही हैं। ये दोनों संस्थाएं शिक्षा और संस्कृति के क्षेत्र में कार्य कर रही हैं। उन्होंने कहा कि सी.सी.आर.टी. केवल शिक्षकों को ही प्रशिक्षित नहीं करता बल्कि कला के क्षेत्र में भी स्कॉलरशिप प्रदान करता है। इस कार्यशाला में इतने विषयों पर प्रशिक्षण देने का उद्देश्य प्रशिक्षणार्थियों के विचार और दृष्टिकोण में बदलाव लाना है ताकि वे स्कूलों में छात्रों को यहां से सीखे गए गुणों का प्रयोग कर उन्हें संस्कारयुक्त शिक्षा प्रदान करें। सी.सी.आर.टी. से देवनारायण रजक ने 10 दिन तक चले विभिन्न सत्रों के बारे में जानकारी प्रदान की। इस अवसर पर शिक्षकों द्वारा तैयार प्रोजेक्ट वर्क, पाठ योजना का अतिथियों ने अवलोकन भी किया। इस अवसर पर शिक्षकों ने प्रशिक्षण प्राप्त कर अपने अनुभवों को सांझा किया। समारोह के अंत में सभी शिक्षक प्रशिक्षक प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र वितरित किए गए।
शिक्षण प्रशिक्षण कार्यशाला के समापन पर जिला शिक्षा अधिकारी अरुण आश्री संबोधित करते हुए।
शिक्षण प्रशिक्षण कार्यशाला के समापन पर सी.सी.आर.टी. की एग्जीक्यूटिव कमेटी के सदस्य एवं विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान के निदेशक डॉ. रामेन्द्र सिंह संबोधित करते हुए।
शिक्षण प्रशिक्षण कार्यशाला के समापन पर सी.सी.आर.टी. के उप निदेशक डॉ. राहुल कुमार संबोधित करते हुए।
शिक्षण प्रशिक्षण कार्यशाला के समापन पर मंचासीन जिला शिक्षा अधिकारी अरुण आश्री, सी.सी.आर.टी. की एग्जीक्यूटिव कमेटी के सदस्य डॉ. रामेन्द्र सिंह एवं सी.सी.आर.टी. के उप निदेशक डॉ. राहुल कुमार।
शिक्षण प्रशिक्षण कार्यशाला के समापन पर प्रमाण पत्र प्राप्त करने के पश्चात प्रशिक्षणार्थी अतिथिगण के साथ।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )
94161-91877
कुरुक्षेत्र सूर्य ग्रहण मेले में आने वाले लाखों श्रद्धालुओं  के लिए सुरक्षा व्यवस्थ के पुख्ता इंतजाम: फुलिया।

कुरुक्षेत्र सूर्य ग्रहण मेले में आने वाले लाखों श्रद्धालुओं के लिए सुरक्षा व्यवस्थ के पुख्ता इंतजाम: फुलिया।


कुरुक्षेत्र सूर्य ग्रहण मेले के लिए चलेगी 42 स्पेशल मेला ट्रैने।
प्रत्येक जिले से 10 से 30 मेला स्पेशल बसे चलेंगी। लोकल रुट का बस शैडयूल जारी।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र 21 दिसम्बर :- उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले में 26 दिसम्बर को कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर लाखों श्रद्धालुओं  के लिए सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे। इस मेले के चप्पे पर पुलिस बल तैनात करने के साथ-साथ सीसीटीवी कैमरों, ड्रौन कैमरों और मचान लगाकर निगरानी रखी जाएगी। किसी भी व्यक्ति को कानून की उल्लघंना नहीं करने दी जाएगी। इतना नहीं मेले में आने वाले श्रृद्घालु को किसी प्रकार की समस्या और परेशानी नहीं आने दी जाएगी।
वे केडीबी कार्यालय में सूर्यग्रहण मेले की तैयारियों को लेकर अधिकारियों की एक बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। इससे पहले उपायुक्त डा. एसएस फुलिया, पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी, अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता, एसडीएम अश्विनी मलिक, एसडीएम अनिल यादव, सीईओ केडीबी गगनदीप सिंह आदि अधिकारियों ने ब्रहमसरोवर पर चारों तरफ चल रही है तैयारियों का जायजा लिया और कमियों को मौके पर ही पूरा करने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उपायुक्त ने जन स्वास्थ्य विभाग, स्वास्थ्य विभाग, सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग, केडीबी, बिजली विभाग, नगर परिषद, लोक निर्माण विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग सहित अन्य विभागों को 23 दिसम्बर तक सभी प्रकार के कार्य पूरी करने के आदेश दिए और कहा कि 24 दिसम्बर को पायलट रिहर्सल की जाएगी। इस रिहर्सल के दौरान अंतिम तैयारियों का जायजा लिया जाएगा।
उन्होंने कहा कि यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था, शौचालयों को स्थापित करने का काम शुरु कर दिया गया है और इस कार्य को सबसे पहले पूरा करना होगा। दूर-दराज से आने वाले यात्रियों को सूचना देने के लिए पब्लिक एड्रेस सिस्टम लगाया जाएगा। इस पब्लिक एडे्रस सिस्टम का मुख्य केन्द्र नंदा स्मारक के पर्यटक सूचना केन्द्र में बनाया जाएगा और इस केन्द्र से नई अनाज मंडी, किरमच रोड़, रेलवे रोड़, पुराना बस स्टैंड, झांसा रोड़, थर्ड गेट और ब्रहमसरोवर के चारों तरफ माईक सिस्टम लगाए जाएंगे और 30 जगहों पर सूचना केन्द्र भी स्थापित किए जाएंगे और इनमें से 20 जगहों पर हेल्प डेस्क भी बनाया जाएगा जहां पर पुलिस और स्वास्थ्य सेवाएं भी उपलब्ध करवाई जाएंगी।
सूर्य ग्रहण मेले के लिए चलेगी 42 स्पेशल मेला ट्रैने।
उपायुक्त डा. एसएस फुलिया ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले के लिए रेलवे विभाग की तरफ से अम्बाला से दिल्ली रेल मार्ग पर 35 टे्रने और कुरुक्षेत्र से जींद रेलवे मार्ग पर 7 स्पेशल मेला ट्रैने चलाई जाएंगी। इन ट्रेनों का टाईम टेबल और शैडयूल तैयार कर लिया गया है। प्रत्येक ट्रेन 5 मिनट के लिए कुरुक्षेत्र रेलवे स्टेशन पर रुकेंगी और नए और पुराने रेलवे स्टेशन पर अतिरिक्त टिकट काउंटर भी बनाए जाएंगे।
किन-किन जिलों से कितनी चलेंगी मेला स्पेशल बसे।
उपायुक्त  डा. एसएस फुलिया ने कहा कि 25 व 26 दिसम्बर के लिए सोनीपत, चरखी दादरी, गुरुग्रमा, झज्जर, नारनौल, फरीदाबाद, रोहतक, दिल्ली, भिवानी, फतेहाबाद, हिसार, पलवल, नूह, सिरसा व रेवाड़ी से 10-10 बसें, कैथल से 30, अम्बाला से 20, यमुनानगर से 20, पानीपत से 30, करनाल से 30, पंचकूला से 20, जींद से 30, चंडीगढ़ से 20 स्पेशल मेला बसें कुरुक्षेत्र के लिए चलेंगी।
लोकल बस सेवा का क्या रहेगा रुट।
उपायुक्त ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले को लेकर लोकल बस सेवा में हर 15 मिनट बसे चलेंगी, इसमें पिपली से थानेसर 5 बसे, मिर्जापुर से थर्ड गेट तक 2 बसे, विज्डम वल्र्ड स्कूल से अनाज मंडी चौंक तक 2 बसे, झांसा चुंगी से थानेसर तक 2 बसे, पिहोवा रोड़ से यूनिवसिर्टी द्वितीय गेट तक 2 बसे, रेलवे स्टेशन से गीता स्कूल तक 2 बसे चलेंगी। उन्होंने बताया कि कुरुक्षेत्र-चीका-गुहला से 10 बसे अस्थाई बस स्टैंड नरकरतारी तक, कुरुक्षेत्र-पिहोवा-पटियाला से 15 बसे, कुरुक्षेत्र-अम्बाला वाया झांसा से 8 बसे झांसा चुंगी तक, कुरुक्षेत्र-यमुनानगर मैन बस स्टैंड 15 बसे, सलारपुर-किरमच से अनाज मंडी तक 5 बसे चलेंगी।
कहां-कहां से वाहनों का रुट होगा डायवर्ट।
एडीसी पार्थ गुप्ता ने कहा कि 25 व 26 दिसम्बर को जिला कैथल व पटियाला के तरफ से आने वाला ट्रैफिक जिसे सहारनपुर, हरिद्वार, हिमाचल प्रदेश, उतराखंड जिला यमुनानगर के क्षेत्र में जाना है, वह वाहन पिहोवा बाईपास एनएच 65 से होकर इस्माईलाबाद बाईपास से होते हुए गांव ठोल, कुरड़ी, नलवी शाहबाद के रास्ते से यमुनानगर की तरफ जा सकते है। इसी प्रकार 25 व 26 दिसम्बर दो दिनों के लिए जिला कैथल के तरफ से आने वाले टै्रफिक जिसे सहारनपुर, हरिद्वार या आगे यूपी में या इंद्री, लाडवा आगे यमुनानगर में जाना है, उसे पिहोवा से ढांड, कैथल से ढांड को गांव कौल के रास्ते वाया निगदू, नीलोखेड़ी व इन्द्री के रास्ते होते हुए यमुनानगर की तरफ जाएंगे। सूर्य ग्रहण मेले के लिए दो दिन पंजाब व पटियाला के रास्ते जो ट्रैफिक पिहोवा आएगा, उसे कुरुक्षेत्र से होकर करनाल, पानीपत, सोनीपत और इसके आगे यूपी व दिल्ली इत्यादि जाना है, वह ट्रैफिक पिहोवा से ढांड और ढांड से कौल के रास्ते अपने गंतव्य स्थान पर जाएंगे। एडीसी ने कहा कि 25 व 26 दिसम्बर को जो ट्रैफिक हिमाचल प्रदेश, उतरप्रदेश, उतराखंड से लाडवा के रास्ते आम तौर पर कुरुक्षेत्र से होकर पिहोवा, कैथल, पंजाब के जिला संगरुर या पटियाला आदि को जाती है, वह ट्रैफिक कुरुक्षेत्र से न जाकर वाया लाडवा, बाबैन, शाहबाद, नलवी, ठोल, इस्माईलाबाद, पिहोवा से होकर अपने गंतव्य स्थान को जाएगा। जो ट्रैफिक जिला यमुनानगर की तरफ से लाडवा-कुरुक्षेत्र के रास्ते पिहोवा व पंजाब को जाएगा, वह ट्रैफिक 25 व 26 दिसम्बर को वाया लाडवा, बाबैन, शाहबाद, नलवी, ठोल व इस्माईलाबाद से होते हुए अपने गंतव्य स्थान को रवाना होगा। इसी प्रकार 25 व 26 दिसम्बर को जो ट्रैफिक जिला यमुनानगर की तरफ से लाडवा-कुरुक्षेत्र होकर ढांड, कैथल व उससे आगे जाएगा, वह ट्रैफिक लाडवा से इंद्री, भादसों, नीलोखेड़ी के रास्ते ढांड-कैथल होते हुए अपने-अपने गंतव्य स्थान को जाएगा।
25 व 26 दिसम्बर को कुरुक्षेत्र में होगा सिर्फ यात्री व आपातकालीन वाहनों का प्रवेश।
एडीसी पार्थ गुप्ता ने कहा कि सूर्य ग्रहण मेले को लेकर 25 व 26 दिसम्बर को कुरुक्षेत्र में आने वाले सभी मार्गो पर नाकाबंदी की जाएगी और सूर्य ग्रहण मेला क्षेत्र में यात्री व आपातकालीन वाहनों जैसे एम्बूलेंस, फायर बिग्रेड, क्रेन आदि शामिल है, को ही प्रवेश करने दिया जाएगा। इसके अलावा अन्य किसी भी वाहन कुरुक्षेत्र की
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित ) तरफ नहीं आने दिया जाएगा।

94161- 91877
अग्रणीय सेवाओं के लिए पर्यावरण भगत समाजसेवी  डॉ. अशोक वर्मा  सम्मानित हुए।

अग्रणीय सेवाओं के लिए पर्यावरण भगत समाजसेवी डॉ. अशोक वर्मा सम्मानित हुए।

अग्रणीय सेवाओं के लिए पर्यावरण भगत समाजसेवी  डॉ. अशोक वर्मा  सम्मानित हुए।
हरियाणा  कुरुक्षेत्र:-  हरियाणा पुलिस अकादमी मधुबन के हर्षवर्धन सभागार में संवेदी पुलिस सशक्त पुलिस कार्यक्रम के अंतर्गत उत्कृष्ट कार्य के लिए पुलिस जवानों को सम्मानित किया गया. इस कड़ी में अपराध दृश्य दल कुरुक्षेत्र के विशेषज्ञ डॉ. अशोक कुमार वर्मा को विशेष रूप से सम्मानित किया गया. यह सम्मान हरियाणा पुलिस अकादमी के निदेशक एवं प्रभारी श्रीकांत जाधव ने प्रदान किया. उन्होंने डॉ. अशोक कुमार वर्मा की मुक्त कंठ से प्रशंसा करते हुए कहा कि ये अपने कार्यक्षेत्र में बहुत ही उत्कृष्ट कार्य कर रहे हैं तथा समाज के प्रति भी अपने कर्तव्य को बहुत ही सराहनीय ढंग से पूर्ण करते हैं. रोटी बैंक के माध्यम से उनकी सेवा अग्रणीय हैं. रक्तदान के क्षेत्र में बहुत योगदान है और पर्यावरण संरक्षण के साथ साथ अन्य सामाजिक बुराइयों के प्रति जागरूकता अभियान से जुड़े हैं. पुलिस के नारे सेवा सुरक्षा और सहयोग को पूर्ण करने में सराहनीय प्रयास कर रहे हैं. इस अवसर पर पुलिस उपाधीक्षक शीतल सिंह धारीवाल, उप पुलिस अधीक्षक राज कुमार, उप पुलिस अधीक्षक लक्ष्मी देवी, उप पुलिस अधीक्षक पवन कुमार, उप पुलिस अधीक्षक अजमेर कुमार, उप पुलिस अधीक्षक सुन्दर सिंह और हज़ारों की संख्या में प्रीशिक्षणार्थी उपस्थित रहे।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - सुकान्त पण्डित )

94161-91877
द्वारिकाधीश चेरिटेबल फाउंडेशन 21 दिसम्बर को मनाएगा एक शाम खाटू श्याम के नाम: वंदना सिंगला।

द्वारिकाधीश चेरिटेबल फाउंडेशन 21 दिसम्बर को मनाएगा एक शाम खाटू श्याम के नाम: वंदना सिंगला।




द्वारिकाधीश चेरिटेबल फाउंडेशन की चेयरपर्सन वंदना सिंगला के सानिध्य में देश भर में चल रहे जनहित कार्य।

हरियाणा कुरुक्षेत्र :-  द्वारिकाधीश चेरिटेबल फाउंडेशन मुख्य कार्यालय कुरुक्षेत्र द्वारा 21 दिसम्बर की सांय गीता धाम कुरुक्षेत्र में एक श्याम खाटू श्याम के नाम धर्म जागरण का आयोजन कर रहा है उपरोक्त जानकारी देते हुए द्वारिकाधीश चेरिटेबल की चेयरपर्सन वंदना सिंगला ने बताया कि गीता धाम परिसर में विशाल पंडाल सजाया गया है जिसमे प्रदेश भर से खाटू श्याम श्रद्धालु खाटू श्याम धर्म जागरण में भाग लेंगे ।
श्रद्धलुओं के लिए श्री खाटू श्याम महाप्रसाद की विशेष व्यवस्था की गई है जिसमे आनंद पूर्वक सभी भगत भगतिमय चरमसुख की अनुभूति महसूस करेंगे।
वंदना सिंगला ने बताया कि द्वारिकाधीश फाउंडेशन समय समय पर जनहित कार्य व समाज सेवा के साथ साथ समाज मे  नाश मुक्ति जरूरतमंद  बच्चों की शिक्षा चिकित्सा  पर भी अपनी सेवाएं दे रहा है।
हरियाणा संपादक - वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक ( छाया - उमेश गर्ग )

94161-91877