BREAKING NEWS

Saturday

मां शाकंभरी देवी के दर्शन करके लौटे कुरूक्षेत्र वासी।


मां शाकंभरी देवी सेवक मंडल द्वारा दूसरी नि:शुल्क दर्शन यात्रा संपन्न।

हरियाणा  कुरुक्षेत्र, 11 जनवरी :- मां शाकंभरी देवी सेवक मंडल द्वारा  उत्तर प्रदेश के जिला सहारनपुर स्थित मां शाकंभरी देवी दरबार के लिए नि:शुल्क दूसरी दर्शन यात्रा में श्रद्धालु दर्शन करके लौटे। अध्यक्ष अशोक शर्मा बाली के नेतृत्व में शुक्रवार सुबह 6 बजे दर्शन यात्रा हेतु बस रवाना हुई जिसमें 60 श्रद्धालु भजन गाते हुए शामिल हुए। यह बस यात्रा कुरूक्षेत्र से चलकर बरास्ता सरसावा व चिलकाना होते हुए सीधे शाकंभरी देवी भवन पंहुची। शाकंभरी जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित इस दर्शन यात्रा में श्रद्धालुओं ने पहले प्रथम पूज्य बाबा भूरादेव  के दर्शन किए। इसके पश्चात शिवालिक पर्वतों की तलहटी में स्थित मां शाकंभरी देवी के दिव्य दर्शन करके श्रद्धालु झूम उठे। सर्वप्रथम यज्ञाचार्य पं. अजय मिश्रा द्वारा विशाल हवन आयोजित किया गया जिसमें सभी भक्तों ने आहूतियां दी। इसके पश्चात  शोभायात्रा निकाली गई जिसमें हाथों में ध्वज लेकर ढ़ोल की मधुर थाप पर भजन गाते हुए श्रद्धालु कुलदेवी मां शाकंभरी के मंदिर पंहुचे।  मां के आलौकिक दर्शन करते हुए भक्तों ने मां शाकंभरी देवी, मां शताक्षी देवी, मां भ्रांबरी देवी, मां भीमा देवी और भूरा देव की मूर्तियों को शाक-सब्जियों और फलों की मालाओं से सजा कर श्रृंगार किया। तत्पश्चात भजनसंध्या में गायक अश्वनी शर्मा लाडवा  व साथियों ने भजन सुनाते हुए संमा बांधा। भजन संध्या के पश्चात भंडारे में भक्तों ने भोजन प्रसाद ग्रहण किया। सांय 6 बजे  शाकंभरी देवी से कुरूक्षेत्र के लिए भक्तों ने प्रस्थान किया। इस मौके पर अध्यक्ष अशोक शर्मा बाली,षड्दर्शन साधु समाज हरियाणा के संगठन सचिव वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक, सचिव चंद्रमौलि गौड़, पं. अजय मिश्रा, रमेश चंद्र बृजवासी, कुमार सागर, जितेन्द्र बंसल, अचिंत राणा, विकास राणा, गुलशन दहिया, वैद्य अशोक वशिष्ठ, आयुर्वेदाचार्य डा. बलवंत मैहला, अश्वनी शर्मा लाडवा, ऋषिपाल शर्मा, रणबीर जागलान, तेलूराम बड़वाला, कुनाल गोस्वामी, राजेश शर्मा, गगनदीप आशु, मोहित, अंकुर, अनिता बाली, उर्वशी बाली, बिन्नी, रेखा शर्मा, सुमन बंसल, कुसुम राणा, नेहा, निशा, राधिका, मनीषा, निहारिका राणा, चिंटू शर्मा और विक्रम सहित बड़ी संख्या में अन्य श्रद्धालु शामिल रहे। 
ये महत्व है शाकंभरी देवी का  : दर्शन यात्रा के आयोजक अशोक शर्मा बाली व सचिव चंद्रमौलि गौड़ ने बताया कि उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले में शिवालिक पर्वत माला की तलहटी में मां शांकभरी देवी का सिद्ध दरबार स्थापित है, जहां दूर-दूर से श्रद्धालु पहुंच कर मां के दर्शन करते है। मां शांकभरी देवी भवन से पूर्व भक्तों को भूरा देव के दर्शन करने होते है। कहा जाता है कि भूरा देव के दर्शनों के बिना मां शांकभरी देवी यात्रा अपूर्ण मानी जाती है। मां शांकभरी देवी का वर्णन बताते हुए बताया गया कि शास्त्रों के अनुसार कालांतर में जब पृथ्वी पर चारों ओर अकाल पड़ गया तो अनाज की भारी कमी हो गई। ब्रह्मा जी के मार्ग दर्शन में देवताओं और ऋषि-मुनियों ने मां जगदम्बा की स्तुति की। जिस पर मां जगदम्बा ने शांकभरी ( शाक-सब्जियों की देवी ) का अवतार लेकर अपने शरीर से सब्जियां , फल और अन्न उत्पन्न किए जिससे लोगों की क्षुधा शांत हुई। तब से मां शांकभरी की पूजा होने लगी। इनकी पूजा से मनुष्य के सभी मनोरथ पूर्ण होते है और अन्न की कभी कोई कमी नहीं रहती।

 वैद्य पण्डित प्रमोद कौशिक

Share this:

 
Copyright © 2020 Discovery Times. Designed by OddThemes