BREAKING NEWS

Monday

*पिछले पांच वर्षो से संगीत क्षेत्र में प्रतिभाशाली लोगो को मंच प्रदान करने के साथ ही निस्वार्थ समाजसेवा कर रहे कुरूक्षेत्र के तरुण सहगल*

*पिछले पांच वर्षो से संगीत क्षेत्र में प्रतिभाशाली लोगो को मंच प्रदान करने के साथ ही निस्वार्थ समाजसेवा कर रहे कुरूक्षेत्र के तरुण सहगल*
संगीत हम सभी को सुकून प्रदान करता है और साथ ही हमारी सभी तरह की परेशानियों का हल भी संगीत को ही माना जाता है। पौराणिक ग्रंथो में भी कहा गया है कि मानव के सभी तरह के तनाव का हल संगीत ही है। ऐसे ही हमारे शहर कुरुक्षेत्र का एक नाम है तरुण कुमार सहगल जिन्होंने बहुत ही कम उम्र में संगीत और समाजसेवा के क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान और नाम बनाने में दिन रात एक कर दिया और यह सिर्फ और सिर्फ उनकी मेहनत का परिणाम है। वह पिछले पांच वर्षो से लगातार प्रतिभाशाली लोगो को मंच प्रदान करने का कार्य कर रहे है और साथ ही जरूरतमंद लोगो की मदद करके उनसे दुआएँ बटौर रहे है। तरुण उड़ान डी रॉक नामक ग्रुप बनाकर यह कार्य कर रहे है। तरुण से पूछने पर उन्होने बताया कि उन्होंने अपनी स्नातक की शिक्षा कुरुक्षेत्र विश्विद्यालय से 2014 में उत्तीर्ण की और लगातार 3 साल अपने कॉलेज के संगीत विभाग के बी.ए. ऑनर्स के टोपर भी रहे है और 2016 में उन्होंने अपनी स्नातकोत्तर महिला अध्ययन से पास की और अपने विभाग में प्रथम डिवीज़न के साथ द्वितीय स्थान हासिल किया और 2014 से लगातार उन्होने संगीत को जन-जन तक पहुँचाने में दिन-रात एक कर दिया। उन्होंने बताया कि अब तक लगभग 350 स्टेज शो कर चुके है और लगभग 10 हजार प्रतिभागियों को मंच प्रदान करने का कार्य कर चुके है। तरुण ने कुरुक्षेत्र के साथ-साथ पानीपत, करनाल, शाहबाद, यमुनानगर, अम्बाला, पिहोवा, जींद और कैथल आदि जगहों पर कार्यक्रम करने के साथ-साथ इन जगहों के बच्चो को मंच प्रदान करने का भी कार्य किया है। इसके साथ ही 100 से अधिक मेडिकल और डेंटल चेकअप कैंप लगवाकर जरूरतमंद लोगो को सहायता देने का भी कार्य बखूबी किया है और समय-समय पर जरूरतमंद लोगो के बीच जाकर उनकी समस्याओ को जानने और उनकी मदद भी कर रहे है। इसके साथ ही यदि संगीत क्षेत्र की बात की जाए तो गरीब बच्चो को मुफ्त संगीत शिक्षा देने और टैलेंट हंट कराकर उन्हें मंच देना प्रमुख कार्य रहा है। यदि समाजसेवा की बात की जाये तो बहुत से ऐसे कार्यक्रम है जो तरुण सहगल और उनके ग्रुप द्वारा चलाये गए है जिनमे से प्रमुख है, बेटियों के लिए चलो गाँव की ओर, जिसके माध्यम से गाँव-गाँव जाकर लड़कियों और महिलाओ को सशक्त करने का कार्य किया जा रहा है,  मेक थानेसर ग्रीन जिसके तहत लडकियों के हाथो से पौधे लगवाकर उनकी रक्षा करने का प्रण भी दिलवाया जा रहा है, फ्री मेडिकल कैंप, फ्री डेंटल चेकअप कैंप, झुग्गी-झोपडी के लोगो को कपडे, मिठाईयां, दवाइयां, आदि बाँटना ये शामिल है। और संगीत के क्षेत्र की अगर बात की जाये तो हिरयाणा बनेगा मंच टैलेंट शो का हाल ही में आयोजन किया गया, जिसमे हरियाणा की विभिन्न जगहों से प्रतिभागियों ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया इसके इलावा कुरुक्षेत्र के सुपरस्टार्स, सुपर किड्स सुपर मॉम, उड़ान डी रॉक टैलेंट हंट, नयू ईयर धमाल, दीवाली सेलिब्रेशन आदि सभी शामिल है। तरुण ने एक पुस्तक भी लिखी है जिसमे हरियाणा के बारे में लिखा है और साथ ही उस पुस्तक को "आवर हरियाणा" नाम दिया गया। ये पुस्तक देखने में तो छोटी सी ही है लेकिन ज्ञानवर्धक साबित हुयी है। तरूण के बारे में प्रशंसनीय बात यह है कि ये सभी कार्य उन्होंने अपने ग्रुप के लोगो के सहयोग और अपने निजी कोष से किये है। तरुण सहगल से भविष्य में होने वाले कार्यो के बारे में पूछने पर बताया कि उनका मुख्य उद्देश्य संगीत को जन-जन तक पहुँचाना है और साथ ही हमारी भारतीय संस्कृति जो आज की युवा पीढ़ी में लुप्त होती जा रही है उसे लुप्त होने से बचाना और युवाओ को मंच प्रदान करने के साथ-साथ उन्हें एक अलग पहचान देना है, जिसके लिए यदि हरियाणा सरकार उन्हे सहयोग करती है तो उनका कहना है कि वह भारत की संस्कृति के लिए और भी अच्छे से कार्य कर पायेंगे। जिसके लिए वह निरंतर इसी लग्न और मेहनत से कार्य करते रहेंगे। उन्होंने कहा की उन्होने अपना जीवन संगीत को ही समर्पित किया हुआ है।

Share this:

 
Copyright © 2020 Discovery Times. Designed by OddThemes