विभिन्न एजेंसियों ने खरीद केन्द्रों पर 6 अप्रैल 2021 तक अब तक खरीदी 4167 एमटी गेंहू:बराड़ - Discovery Times

Discovery Times

RNI No.: 119642

Breaking

Home Top Ad

Top Ad

Post Top Ad

Responsive Ads Here

07 April 2021

विभिन्न एजेंसियों ने खरीद केन्द्रों पर 6 अप्रैल 2021 तक अब तक खरीदी 4167 एमटी गेंहू:बराड़

खरीद केन्द्रों पर सुचारु रुप से चल रहा है खरीद का कार्य, सोशल डिस्टैंसिंग के नियमों की पालना करवाना सुनिश्चित करे अधिकारी, साथ-साथ किया जा रहा है गेंहू लिफ्टिंग का कार्य
कुरुक्षेत्र 7 अप्रैल: उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ ने कहा कि गेंहू खरीद के सीजन में अब तक खरीद एजेंसियों द्वारा अलग-अलग खरीद केन्द्रों से कुल 4167 मीट्रिक टन गेंहू की खरीद की है। इस जिले में खरीद केन्द्रों पर गेंहू की खरीद का कार्य सुचारु रुप से ल रहा है। इन खरीद केन्द्रों पर किसान अपनी फसलों को लेकर अपने निर्धारित शैडयूल के अनुसार खरीद केन्द्रों पर पहुंच रहे है। इसके साथ मंडियों में आने वाले किसानों व मजदूरों को कोविड-19 की गाईडलाईंस की पालना करने के लिए जानकारी देकर जागरुक भी किया जा रहा है।

उपायुक्त शरणदीप कौर बराड़ ने जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वरा जारी रिपोर्ट के आधार पर कहा कि खरीद केन्द्रों पर 6 अप्रैल 2021 तक खरीद एजेंसियां द्वारा 4167 मीट्रिक टन गेंहू की खरीद की गई है, जिसमें से खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा 2603 एमटी व हैफेड द्वारा 1564 एमटी गेंहू की खरीद की गई है। शाहबाद मंडी में 1530 एमटी, लाडवा मंडी में 956 एमटी, पिपली मंडी में 290 एमटी, पिहोवा मंडी में 186 एमटी, बाबैन मंडी में 494 एमटी, गुमथला गढु मंडी में 245 एमटी, इस्माईलाबाद मंडी में 64 एमटी, ठोल मंडी में 67 एमटी और कुरक्षेत्र मंडी में 335 एमटी गेहूं की खरीद की गई है। सभी खरीद केन्द्रों पर गेंहू खरीद का कार्य सुचारु रुप से चल रहा है। सभी एसडीएम को निर्देश दिए गए है सम्बन्धित खरीद केन्द्रों पर नजर रखे ताकि किसी प्रकार की कोई समस्या ना आए।

उन्होंने कहा कि एजेंसियों द्वारा गेंहू उठान/भंंडारण कार्य को भी लगातार किया जा रहा है। अब तक की गई 4167 मीट्रिक टन गेंहू में से जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने 31 एमटी गेंहू उठान/भंंडारण का कार्य पूरा कर लिया है। उन्होंने कहा कि मंडियों व खरीद केन्द्रों पर फसल को लेकर आने के लिए प्रशासन द्वारा एक शैडयूल बनाया गया है, जिसके तहत ही किसानों को फसल बेचने के लिए बुलाया जा रहा है। इसलिए सभी किसान निर्धारित शैडयूल के अनुसार ही मंडियों में फसल को लेकर आए।

 

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages