किसी बुराई को ना अपना कर अच्छाई का स्त्रोत बनकर इस संसार के लिए प्रेणता बनना होगा: सचदेवा - Discovery Times

Discovery Times

RNI Registred No.-119642

Breaking

Friday, November 5, 2021

किसी बुराई को ना अपना कर अच्छाई का स्त्रोत बनकर इस संसार के लिए प्रेणता बनना होगा: सचदेवा


 कुरुक्षेत्र (अनिल धीमान् ) :  गवर्नमेंट पॉलिटेकनिक, उमरी, कुरुक्षेत्र में बुधवार को  दीपावली का उत्सव प्राध्यापकों व विद्यार्थियों ने बड़ी धूमधाम से आपस में मिठाईयां बाँट कर मनाया। कालेज के प्रिसीपल श्री कंवल सचदेवा जी  ने इस अवसर पर विद्यार्थियों को व उपस्थित प्राध्यापकों को बताया कि दिपावली का पर्व केवल मिठाईयां बांटकर, पटाखे फोडक़र ही नही मनाया जाना चाहिए अपितु भगवान श्री राम की तरह सबसे प्रेम करके व दूसरों की खुशी देकर व दूसरों के दुखों को दूर करने व आपसी सौहार्द का परिचय देकर मनाना चाहिए ताकि पूरे विश्व में इस पर्व पर  प्रेम व सौहार्द व समरसता का संदेश जाए, आज विश्व एक मंच पर है जो भी किसी देश में अच्छा या बुरा  घटित होता है या  संदेश होता है वह टी.वी. के माध्यम से व सोशल मीडिया के माध्यम से पूरे विश्व में पहुंच जाता है ,इसलिए हम सभी को हमारे देश की समृद्ध परंपराओं को, यज्ञ को, योग को व ज्ञान को पूरे विश्व में पहुंचाने के लिए अपने आप को उदाहरण के रुप में प्रस्तुत करना होगा। हमारी शिक्षा के माध्यम से अपने स्किल को भी इस समाज को देने के लिए हमें अपने आप को मानसिक रुप से तैयार करना होगा। किसी बुराई को ना अपना कर अच्छाई का स्त्रोत बनकर इस संसार के लिए प्रेणता बनना होगा।

फोटो- छात्र-छात्राओं द्वारा बनाई रंगोली

गवर्नमेंट पॉलिटेकनिक, उमरी, कुरुक्षेत्र में मनाया दीपावली महोत्सव

उपस्थित प्राध्यापक व प्रिसीपल महोदय ने मनाया दीपावली महोत्सव

 इस अवसर पर छात्रों ने कॉलेज में  रंगोली बनाई व सुंदर देशभक्ति व भक्ति के गीत गाकर सभी को मंत्रमुगध कर दिया व उपस्थित प्रधानाचार्य व प्राध्यापकों  से आर्शीवाद लिया। इस अवसर पर प्राध्यापिका अर्चना शर्मा जी, प्राध्यापक दीपक रोहिल्ला जी, अजय मलिक जी, सुरेन्द्र कुमार जी, कृष्ण कुमार जी, विकास कुमार जी, नरेश कुमार जी , छात्र धीरज कुमार, आदित्य ठाकुर, मन्दीप कौर, सिल्की, हरमीत कौर, परवीन, योगेश, उज्जवल, अनमोल, रोहित, चरनजीत सिंह, सुरेन्द्र , देवव्रत, चाहत, लावण्य , दिक्षिता, मनीष ,सत्य, हर्ष आदि छात्र व छात्राय प्रमुख रुप से मौजूद रहे।



No comments:

Post a Comment