पिहोवा के छिलछिला वन्य प्राणी विहार के क्षेत्र को किया इको-सेंसिटिव जोन घोषित - DISCOVERY TIMES

Breaking News

हमारा साथ देने व् जुड़ने के लिए डिस्कवरी टाइम्स समूह आपका आभारी है, आप सभी का तह दिल से बहुत बहुत धन्यवाद ... निष्पक्ष और विश्वनीय ख़बरें आपके लिए बहुत जरूरी है ... आप डिस्कवरी टाइम्स से अपने रिश्ते मज़बूत करें, आपके अनुभवो को बेहतर बनाने के लिए हम लाये है प्रिंट एडिशन के साथ साथ ई-पेपर सब्सक्रिप्शन ... कुरुक्षेत्र टाइम्स को आवश्यकता है पत्रकारों की जो पत्रकारिता में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं इच्छुक व्यक्ति संपर्क करें. WhatsApp 9215330006

19 October 2022

पिहोवा के छिलछिला वन्य प्राणी विहार के क्षेत्र को किया इको-सेंसिटिव जोन घोषित

कुरुक्षेत्र 19 अक्टूबर(अनिल धीमान)  :उपायुक्त शांतनु शर्मा ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने पिहोवा के छिलछिला वन्य प्राणी विहार की परिधि के चारों तरफ 1 किलोमीटर के क्षेत्र को इको-सेंसिटिव जोन घोषित किया है। इस ईको-सेंसिटिव जोन की परिधि में नए निर्माण पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसमें माइनिंग आदि विषयों को भी शामिल किया गया है। इन आदेशों की पालना करवाने को लेकर एक जिला स्तरीय कमेटी का भी गठन किया गया है। यह कमेटी सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की पालना करवाएगी।

उपायुक्त शांतनु शर्मा बुधवार को देर सायं उपायुक्त कार्यालय में सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की पालना करवाने को लेकर जिला स्तरीय कमेटी की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 28 नवंबर 1986 को पिहोवा के छिलछिला वन्य प्राणी विहार की 71 एकड़ जमीन को लेकर नोटिफिकेशन जारी किया था। इस नोटिफिकेशन के अनुसार इसे वन्य जीवों के लिए विशेष जोन में शामिल किया। इस वन्य प्राणी विहार में पानी भरा हुआ है और इस क्षेत्र में प्रवासी पक्षी आते है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 में वन्य पर्यावरण मंत्रालय भारत सरकार की तरफ से छिलछिला वन्य प्राणी विहार की चारों तरफ की 80 मीटर परिधि को इको-सेंसिटिव जोन घोषित किया था। इस ईको-सेंसिटिव जोन में कुछ गतिविधियों पर पूर्णत: प्रतिबंध लगा दिया गया था, जिनमें माईनिंग आदि कार्य शामिल है। इसके अलावा कुछ गतिविधियों को करने की अनुमति प्रदान की जाएगी।
न्यायालय के आदेशानुसार वन्य प्राणी विहार की निर्धारित 1 किलोमीटर में नए निर्माण पर लगाया प्रतिबंध, उपायुक्त शांतनु शर्मा की अध्यक्षता में गठित जिला स्तरीय कमेटी में सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की पालना करवाने को लेकर हुई चर्चा
उन्होंने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने 3 अगस्त 2022 को आदेश जारी किए कि देश के सभी वन्य प्राणी विहार की 1 किलोमीटर की परिधि को इको-सेंसिटिव जोन घोषित किया गया है। इस ईको-सेंसिटिव जोन की बकायदा एक सूची भी तैयार की गई है। इस सूची में पिहोवा के छिलछिला वन्य प्राणी विहार को भी शामिल किया गया है। इसलिए सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों की पालना करवाने के उद्देश्य को लेकर उपायुक्त की अध्यक्षता में जिला स्तरीय कमेटी बनाई गई है, जिसमें अतिरिक्त उपायुक्त, गैर सरकार सदस्य 1 वर्ष के लिए, प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी, डीएफओ, डीटीपी, हरियाणा सरकार के एक सदस्य को शामिल किया गया है। उन्होंने बताया कि छिलछिला वन्य विहार की 1 किलोमीटर की परिधि का सर्वे करने के उपरांत कुल 245 स्ट्रक्चर की रिपोर्ट दर्ज की गई है। अब इस निर्धारित परिधि में कोई भी नया निर्माण कार्य नहीं किया जा सकेगा। अगर अदालत के आदेशों के अनुसार जो कार्य निर्धारित किए गए है, उन कार्यों को करने के लिए भी प्रशासन से अनुमति लेनी होगी।


No comments:

Post a Comment